ब्लॉगसेतु

The Views
0
ग्लेशियर टूटने के बाद इस तरह बहता दिखा मलबा. चमोली। उत्तराखंड के हिमालयी क्षेत्र में रविवार को ग्लेशियर टूटने से भारी तबाही आई। इससे पनबिजली परियोजना सहित एक अन्य बडा प्रोजेक्ट बर्बाद हो गया। अब तक 19 लोगों के मरने की पुष्टि की गई है। 202 लोग लापता हैं, जिनकी तलाश...
 पोस्ट लेवल : दुर्घटना—आपदा
kumarendra singh sengar
0
रोज ही आपको सड़क दुर्घटनाओं की खबर पढ़ने को मिलती होगी, दुर्घटनाओं में लोगों के मारे जाने की भी खबरें मिलती होंगीं, हो सकता है कि आप, आपके परिजन, परिचित, सहयोगी आदि कभी बाइक, कार आदि दुर्घटना के शिकार हुए हों, दुर्भाग्य से आपके बीच का कोई सदस्य दुर्घटना में आपने हम...
kumarendra singh sengar
0
21 दिन के लॉकडाउन की घोषणा हुई तो बहुत से लोगों को लगा कि उनको घर में कैद कर दिया गया है. प्रधानमंत्री के शब्द कुछ ऐसे थे भी कि लोगों ने इसे एक तरह का कर्फ्यू ही समझा. समझना भी चाहिए था. खैर, चर्चा इसकी नहीं. लॉकडाउन का कौन, कितना, किस तरह से पालन कर रहा, यह उसकी म...
kumarendra singh sengar
0
अपनी उम्र के चार दशक गुजारने के बाद आत्मकथा लिखना हुआ. इसमें अपने जीवन के चालीस वर्षों की वह कहानी प्रस्तुत की गई जिसे हमने अपनी दृष्टि से देखा और महसूस किया. कुछ सच्ची कुछ झूठी के रूप में आत्मकथा कम अपनी जीवन-दृष्टि ही सामने आई. व्यावसायिक रूप से, प्रकाशन की आर्थि...
सुशील बाकलीवाल
0
       हम सभी के जीवन में कभी अकस्मात कुछ परिस्थितियां ऐसी भी बन जाती है, जब हमें तत्काल किसी अपने की,  विशेष सुरक्षा की या कानूनी मदद की आवश्यकता आ पडती है । किंतु सामान्य तौर पर उस वक्त हम न सिर्फ अकेले होते हैं,  बल्कि इस स्थित...
सुशील बाकलीवाल
0
       हम सभी के जीवन में कभी अकस्मात कुछ परिस्थितियां ऐसी भी बन जाती है, जब हमें तत्काल किसी अपने की, विशेष सुरक्षा की या कानूनी मदद की आवश्यकता आ पडती है । किंतु सामान्य तौर पर उस वक्त हम न सिर्फ अकेले होते हैं,  बल्कि इस स्थिति में भी नह...
सुशील बाकलीवाल
0
       हमारे जीवन में कभी भी अकस्मात कुछ परिस्थितियां ऐसी बन जाती है,  जब हमें तत्काल किसी अपने की, विशेष सुरक्षा की या कानूनी मदद की आवश्यकता आन पडती है, और सामान्य तौर पर उस वक्त हम न सिर्फ अकेले होते हैं,  ब...
सुशील बाकलीवाल
0
       हम सभी के जीवन में कभी अकस्मात कुछ परिस्थितियां ऐसी भी बन जाती है, जब हमें तत्काल किसी अपने की, विशेष सुरक्षा की या कानूनी मदद की आवश्यकता आ पडती है । किंतु सामान्य तौर पर उस वक्त हम न सिर्फ अकेले होते हैं,  बल्कि इस स्थिति में भी नह...
kumarendra singh sengar
0
ये  आवश्यक नहीं कि आप अथवा आपका शहर आतंकिओं के निशाने पर हो और वहाँ किसी तरह का बम धमाका हो, किसी तरह की गोलीबारी हो. बिना इसके भी आतंकी अथवा उनके स्लीपर सेल अपना काम करने के लिए नए-नए रास्ते तलाशने लगे हैं. इसे किसी तरह का आकलन अथवा अनुमान मान कर अनदेखा करने...
kumarendra singh sengar
0
शासन-प्रशासन इस समय इस चिंता में हैं कि कैसे वाहन चालकों की जान बचाई जाये. ऐसा पढ़कर आपको आश्चर्य लगेगा. लगना भी चाहिए क्योंकि बात ही ऐसी है. पिछले दिनों वाहन सम्बन्धी अधिनियम में जबरदस्त बदलाव करते हुए जुर्माने को कई-कई गुना बढ़ाया गया. कई प्रदेशों से अचानक से बड़ी-ब...