ब्लॉगसेतु

निर्मला कपिला
0
 दोहे सब धर्मों से ही  बडा देश प्रेम को मान सोने की चिडिया बने भारत देश महान ।शाम तुझे पुकार रही सखियाँ करें विलापपूछ रही रो रो सभी कहाँ शाम जी आप ।दीप जलाये देखती रोज़ पिया की राह साजन जब आये नही  मन से निकले आह \लिये चलो मन वावरे प्रभु मिलन  की...
 पोस्ट लेवल : दोहे
निर्मला कपिला
0
 दोहेकौन बिछाये बाजरा कौन चुगाये चोग देख परिन्दा उड गया खुदगर्जी से लोगलुप्त हुयी कुछ जातियाँ छोड गयीं कुछ देश \ठौर ठिकाना ना रहा पेड रहे ना शेषकौन करेगा चाकरी कौन उठाये भारखाने को देती नही कुलियों को सरकार धन दौलत हो जेब मे ,हो जाते सब काम कलयुग के इस दौ...
 पोस्ट लेवल : दोहे
निर्मला कपिला
0
 दोहेसूरत से सीरत भली सब से मीठा बोलकहमे से पहले मगर शब्दों मे रस घोलरिश्ते नातों को छोड कर चलता बना विदेशडालर देख ललक बढी फिर भूला अपना देशखुशी गमी तकदीर की भोगे खुद किरदारबुरे वक्त मे हों नही साथी रिश्तेदारहैं संयोग वियोग सब  किस्मत के ही हाथ जितना...
 पोस्ट लेवल : दोहे
jaikrishnarai tushar
0
डॉ० राधेश्याम शुक्लडॉ० राधेश्याम शुक्ल हिन्दी साहित्य के अप्रतिम कवि हैं| गीत/ नवगीत/ ग़ज़ल/ दोहे/ लघुकथा और समीक्षा से हिन्दी साहित्य को समृद्ध कर रहे इस कवि का जन्म २६ अक्टूबर १९४२ को ग्राम सेमरा जिला संत रविदास नगर [भदोही] उत्तर प्रदेश में हुआ था| जाट पी० जी० क...
 पोस्ट लेवल : परिचय दोहे
निर्मला कपिला
0
श्री नवीन चतुर्वेदी जी के ब्लाग -- http://samasyapoorti.blogspot.com/ दोहा के बारे मे पढा तो सोचा यहाँ भी हाथ आजमा लिया जाये। पहली बार दोहे लिखे हैं। सही गलत आप लोग देख लें। दोहे1जीवन मे माँ से बडा और नही वरदानमाँ चरणों की धूल लेखुश होंगे भगवान।2भारत की गरिमा...
 पोस्ट लेवल : दोहे
jaikrishnarai tushar
0
कैलाश गौतम                                                                 लगे फूंकने आम के, बौर गुल...
girish billore
0
..............................
girish billore
0
मन मोहन संग रास-रस,अंग-अंग सकुचाय !अनुभव मत पूछो सखि ,मोसे कहो नै जाय !! देखूं तो प्रिय के नयन,सुनूं तो प्रिय के गीत ! हिय हारी मैं तुम कहो, तभी तो मोरी जीत !! मैं प्रियतम की बावरी,प्रीत रंग चहुँ ओर ! आई मधु ऋतु ,देने पीर अछोर !!...
 पोस्ट लेवल : गिरीश के दोहे