ब्लॉगसेतु

kumarendra singh sengar
26
स्वतंत्रता दिवस की और पावन पर्व रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएँ.इस वर्ष का सावन माह अपने आपमें अभूतपूर्व घटनाओं का गवाह रहा है. इस अभूतपूर्व स्थिति में इए सुखद और पावन संयोग ही कहा जायेगा कि स्वतंत्रता का महोत्सव और भाई-बहिनों के स्नेह का पर्व एक दिन ही मनाया जा रह...
kumarendra singh sengar
26
अगस्त का आरम्भ भारतीय राजनीति के लिए, समाज के लिए यादगार माना जायेगा. ऐसा इसलिए क्योंकि सदन की तरफ से दो निर्णय ऐसे हुए जिनकी लम्बे समय से अपेक्षा ही नहीं थी वरन वे निर्णय देश के लिए, समाज के लिए अपरिहार्य भी थे. इन दो निर्णयों में तीन तलाक का मामला और धारा 370 का...
विजय राजबली माथुर
103
Rajesh Rajesh24-02 -2019एक से अधिक कारणों से, जम्मू-कश्मीर का संविधान, 17 नवंबर, 1956 को अपने संविधान सभा द्वारा पास किया गया था, पूर्णतया शून्य है और जो कानून लागू है। एक पूर्ण नलीयता, एक गैर एस्ट. संवैधानिक और राजनैतिक नैतिकता भी इसे बदबूदार बनाती है. यह 26 जनवरी...
Madabhushi Rangraj  Iyengar
512
धारा 370 ...सच क्या है..चुनावी प्रचारों के दौरान जब भाजपा ने संविधान की धारा 370 के बारे में चर्चा की और कहा कि उनकी सरकार बनने पर इस धारा को निष्प्रभावित कर दिया जाएगा, तो अब्दुल्ला परिवार से जबरदस्त विरोध हुआ. बाकियों से जो विरोध हुआ सो अलग. सामाजिक मंचों पर भी त...
 पोस्ट लेवल : धारा 370
हर्षवर्धन त्रिपाठी
89
तस्वीर कम अच्छी इसलिए आई कि मैं महिला, उसके साथी पुरुष की शक्ल नहीं दिखाना चाहता थाइस बार के चुनावों में धारा 370, समान नागरिक संहिता पर भी खूब बात हुई है। बात क्या हुई है। बहस  हुई है वो भी कुछ इस अंदाज में कि तुम करोगे तो देख लेना कि क्या होता है। मैं कल बिग...
विजय राजबली माथुर
199
१९८० में बउआ की तबियत ज्यादा खराब हुई,वह अंगरेजी दवा लेती नहीं थीं .एक परिचित डा.साहब के पिताजी मशहूर वैद्य थे उन्हें हाल बता कर दवा दी जिससे उन्हें तत्काल फायदा हुआ. यह उन दिनों की बात है जब संजय गांधी की विमान दुर्घटना में हत्या धीरेन्द्र ब्रह्मचारी की कृपा से हु...