ब्लॉगसेतु

Asha News
118
दीप यज्ञ एवं महाआरती का होगा आयोजनझाबुआ। मां गंगा दशमी और वेद माता गायत्रीजी की जयंती (अवतरण) दिवस पर आज 12 जून, बुधवार को स्थानीय कॉलेज मार्ग स्थित गायत्री शक्तिपीठ पर विभिन्न धार्मिक कार्यक्रम संपन्न होंगे। इस दिन मुख्य रूप से शाम को मंदिर में दीप यज्ञ एवं महाआरत...
Asha News
118
जो समय को व्यर्थ ही खोता है, वह अज्ञानी होता है। समय निकल जाने के बाद पछताने से कुछ नही होगा - श्री सतीशकुमार शर्माश्रीमद भागवत कथा में प्रहलाद चरित्र की विशद व्याख्या की गईझाबुआ । भगवान गोवर्धननाथ जी जिस धरा पर विराजित है,वहां गोवर्धननाथजी की हवेली में 11 दिवसीय 1...
Asha News
118
मंदिर में श्री सच्चियायमाता ओसियाजी एवं श्री सोनाणा खेतलाजी भैरव महाराज की प्रतिमा होगी विराजमान झाबुआ। जिले के सेठो की नगरी बामनिया में 12 से 14 जून तक 3 दिवसीय भव्य प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव का आयोजन होगा। जिसमें मप्र में प्रथम मंदिर में ओसवाल वंश की कुलदेवी र...
 पोस्ट लेवल : बामनिया धार्मिक religious
Saransh Sagar
252
हिंदू विवाहित महिलाएं जिनके पति जीवित हैं, अपने सास-ससुर एवं पति की लम्बी उम्र के लिए वट सावित्री व्रत को मानतीं हैं। महाराष्ट्र, गुजरात और दक्षिणी भारतीय राज्यों में विवाहित महिलाएं उत्तर भारतीयों की तुलना में 15 दिन बाद समान रीति से वट सावित्री व्रत मानतीं हैं।सा...
Juban-ए- दास्तां
359
आप भी इस देश की संतान हैं ,किसने आपको पथभ्रष्ट किया है ,या स्वयं ही भूल गए हो ,आखिर तो आप भी इंसान हैं।किस चाह से हो लड़ रहे ,क्यों नफरतें फैला रहे ,लोगों में डर बैठा रहे ,क्या यही ईमान हैं।दबा देते हो चीखें , नहीं सिसकने भी देते ,बुझा देते हो नन्हे चराग़ को भ...
Juban-ए- दास्तां
359
यही की वह महाराष्ट्र के #आदिवासी परिवार से थी। नेशनल मेडिकल कॉलेज में पोस्ट ग्रेजुएट (एम.डी.) की  पढाई कर रही थी..!!कॉलेज की कुछ सीनियर, तुच्छ मगजी सवर्ण महिलाओ ने...जाति के नाम पर डॉ पायल तड़वी को प्रताड़ित करना शुरू कर दिया। व्हाटसअप ग्रुप में उसकी जाति को लेक...
Juban-ए- दास्तां
359
गुलामी का दौर एकदम नहीं आया था भारत में...समय के साथ उसकी सीमा बढ़ती गयी जिससे देश को गुलामी जैसी जकड़न से गुजरना पड़ा। भारत में ईस्टइंडिया कंपनी का आगमन हुआ जो भारतवासियों का विश्वास जीतने में सफल रही थी। यही कारण था कि भारत जैसे प्रबुद्ध देश पर ईस्टइंडिया कंपनी और अ...
Saransh Sagar
252
परिचय :-  हनुमानजी बल बुद्धि और विद्या से संपन्न है पर उनकी एक और विशेषता थी भोजन। हनुमानजी को भूख बहुत लगती थी। और भूख उनसे सहन नहीं होता था। रामायण काल में कई जगहों इसका प्रमाण मिलता है यथा:- बाल्यावस्था में सूर्य को फल समझ कर खा जाना, भूख के कारण अशोक वाटिक...
Asha News
118
भगवान के अनुग्रह से स्वतः उत्पन्न हो और जिसमें भगवान दयालु होकर स्वतः जीव पर दया करें, वह पुष्टिभक्ति कहलाती है- पूज्य दिव्येश कुमार जीझाबुआ। श्री वल्लभ सम्प्रदाय भक्ति का एक संप्रदाय, जिसकी स्थापना महाप्रभु वल्लभाचार्य ने की थी। इसे वल्लभ संप्रदाय या वल्लभ भी कहते...
 पोस्ट लेवल : धार्मिक religious
vedprakash srivastav
122
..............................
 पोस्ट लेवल : 25- धार्मिक-आस्था