ब्लॉगसेतु

Saransh Sagar
176
एक पंडित जी रामायण कथा सुना रहे थे। लोग आते और आनंद विभोर होकर जाते। पंडित जी का नियम था रोज कथा शुरू करने से पहले "आइए हनुमंत जी बिराजिए" कहकर हनुमान जी का आह्वान करते थे, फिर एक घण्टा प्रवचन करते थे।वकील साहब हर रोज कथा सुनने आते। वकील साहब के भक्तिभाव पर एक दिन...
Saransh Sagar
176
संकट मोचन हनुमान जी का जन्म श्री राम के परम भक्त हनुमान जी का जन्म चैत्र शुक्ल की पूर्णिमा को मंगलवार के दिन हुआ था । इनकी माता का नाम देवी अंजनी तथा पिता का नाम केसरी था । यह रुद्रावतार थे । एवं कलियुग में अमर आठ देवगण में से एक है हनुमान जी के अमर होने...
Saransh Sagar
176
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); #चमकौर_का_युद्ध- जहां 10 लाख मुग़ल सैनिकों से लड़कर जीते थे मात्र 40 सिक्ख दुनिया के इतिहास में ऐसा युद्ध न कभी किसी ने पढ़ा होगा न ही कभही किसी ने सोचा होगा, जिसमे 10 लाख की फ़ौज का सामना महज 40 लोगों के...
Saransh Sagar
176
कितने ही देवी देवता और इनमें इतनी ही अपार श्रद्धा कि भक्त अपने भगवान पर इतना भरोसा करते हैं कि उनके लिये कुछ भी कर गुजरने को तैयार रहते हैं… जी हां ये है हिन्दुस्तान की धार्मिक संस्कृति जो देश भर के अलग अलग कोनों में अपने अलग अलग रंग लिये हुए हैं और आज धर्म और...
Saransh Sagar
176
"मंदिर" का अर्थ होता है:- 'मन से दूर कोई स्थान'। "मंदिर" का शाब्दिक अर्थ 'घर' है और मंदिर को द्वार भी कहते हैं, जैसे रामद्वारा, गुरुद्वारा आदि।मंदिर को आलय भी कह सकते हैं, ‍जैसे ‍कि "शिवालय", "जिनालय"।लेकिन जब हम कहते हैं कि मन से दूर जो है, वह मंदिर है तो उसक...
Saransh Sagar
176
भारत में प्रायः चार जगह महाकुंभ लगते रहे है जिसमे हरिद्वार, उज्जैन, प्रयाग और नासिक शामिल है लेकिन संत समाज और श्रद्धालुओं की माने तो भारत में कुल १२ जगहों पर महाकुंभ का आयोजन होता था जिसमे बिहार के सिमरिया जो कि आदि कुंभ स्थली रहा है वैदिक काल से बद्रिकाश्रम , असम...
Saransh Sagar
176
एक बार हनुमानजी ने प्रभु श्रीराम से कहा कि अशोक वाटिका में जिस समय रावण क्रोध में भरकर तलवार लेकर सीता माँ को मारने के लिए दौड़ा, तब मुझे लगा कि इसकी तलवार छीन कर इसका सिर काट लेना चाहिये, किन्तु अगले ही क्षण मैंने देखा कि मंदोदरी ने रावण का हाथ पकड़ लिया, यह देखकर...
Saransh Sagar
176
शिव लिंग ( पवित्रता का प्रतीक )विधर्मियों और अंग्रेज़ो ने शिवलिंग को गुप्तांग की संज्ञा कैसे दी और अब हम बेवकूफ हिन्दू खुद शिवलिंग को शिव् भगवान का गुप्तांग समझने लगे हे और दूसरे हिन्दुओ को भी ये गलत जानकारी देने लगे हे।प्रकृति से शिवलिंग का क्या संबंध है ..?जाने शि...
Saransh Sagar
176
ॐ नमः शिवायहर हर महादेवभगवान शिव जितने रहस्यमयी हैं,  हैं, भांग व धतूरा ग्रहण करते हैं। आदि न जाने कितने रोचक तथ्य इनके साथ जुड़े हैं। आज हम आपको भगवान शिव से जुड़ी ऐसी ही रोचक बातें व इनमें छिपे लाइफ मैनेजमेंट के सूत्रों के बारे में बता रहे हैं, जो इस प्रकार...
Saransh Sagar
176
आज यहाँ जितने भी जानना चाहते हैं की भगवान् होता है या नहीं इसे जरूर पढ़ें । क्योंकि वो सिर्फ विश्वास से है वरना नहीं है । एक बार भगवान् ने अपने चेले से कहा की मै जरा घूम कर आता हूँ तो चेला बोल मै भी साथ चलता हूँ ! भगवान् : तुम क्या करोगे मेरे साथ ? चल के थक जा...