ब्लॉगसेतु

Saransh Sagar
224
कितने ही देवी देवता और इनमें इतनी ही अपार श्रद्धा कि भक्त अपने भगवान पर इतना भरोसा करते हैं कि उनके लिये कुछ भी कर गुजरने को तैयार रहते हैं… जी हां ये है हिन्दुस्तान की धार्मिक संस्कृति जो देश भर के अलग अलग कोनों में अपने अलग अलग रंग लिये हुए हैं और आज धर्म और...
Saransh Sagar
224
"मंदिर" का अर्थ होता है:- 'मन से दूर कोई स्थान'। "मंदिर" का शाब्दिक अर्थ 'घर' है और मंदिर को द्वार भी कहते हैं, जैसे रामद्वारा, गुरुद्वारा आदि।मंदिर को आलय भी कह सकते हैं, ‍जैसे ‍कि "शिवालय", "जिनालय"।लेकिन जब हम कहते हैं कि मन से दूर जो है, वह मंदिर है तो उसक...
Saransh Sagar
224
 मंदिर का इतिहास ( किंवदंती ) - 1शिव पार्वती मंदिर का इतिहास कई हजार साल पुराना है और इस मंदिर में स्थापित मूर्ति लगभग 5000 साल पुरानी है। माना जाता है कि ये मूर्ति कुएं की खुदाई में मिली थी। पुराणों में उल्लेख के अनुसार सोहागपुर का प्राचीन नाम श्रोणितपुर...
Saransh Sagar
224
दक्षिणेश्वरी काली माता मंदिर सोहागपुर ( होशंगाबाद ) मध्यप्रदेश में स्थित है !! ये रेलवे ट्रैक के नजदीक है !! यहाँ भ्रमण करने का सौभाग्य हितेश भाई के द्वारा संभव हुआ !! जिनका बहुत बहुत आभार प्रकट करता हूँ ! भविष्य में यहाँ एक सुंदर मंदिर बनने की हमारी इच्छा है जो मा...
Saransh Sagar
224
भारत में प्रायः चार जगह महाकुंभ लगते रहे है जिसमे हरिद्वार, उज्जैन, प्रयाग और नासिक शामिल है लेकिन संत समाज और श्रद्धालुओं की माने तो भारत में कुल १२ जगहों पर महाकुंभ का आयोजन होता था जिसमे बिहार के सिमरिया जो कि आदि कुंभ स्थली रहा है वैदिक काल से बद्रिकाश्रम , असम...
Saransh Sagar
224
परिचय :-  हनुमानजी बल बुद्धि और विद्या से संपन्न है पर उनकी एक और विशेषता थी भोजन। हनुमानजी को भूख बहुत लगती थी। और भूख उनसे सहन नहीं होता था। रामायण काल में कई जगहों इसका प्रमाण मिलता है यथा:- बाल्यावस्था में सूर्य को फल समझ कर खा जाना, भूख के कारण अशोक वाटिक...
Ram Shiv Murti Yadav
139
आज जन्माष्टमी है जिसे पूरे देश में भगवान श्रीकृष्ण के जन्मदिवस के रूप में मनाया जाता है. श्रीकृष्ण द्वारिकाधीश, केशव, गोपाल, नंदलाल, बांके बिहारी, कन्हैया, गिरधारी, मुरारी जैसे हजारों नामों से पहचाने जाने वाले भगवान श्रीकृष्ण को हिन्दू धर्म में विष्णु का अवतार माना...
Ram Shiv Murti Yadav
474
आजमगढ़: ‘‘यह मस्जिद है, वह बुतखाना। या ये मानो या वो मानो। तुम्हें है एक ही राह जाना चाहे यह मानो या वो मानो।’’....अयोध्या नगरी के पड़ोसी जिले आजमगढ़ की फिजा यह एहसास कराती है कि कैसे वहां जब एक ही स्थान पर शिवालय की घंटिया, मस्जिद से उठती अजान की आवाज माहौल में सा...
Ram Shiv Murti Yadav
474
माँ पल्हमेश्वरी देवी जी (पल्हना मंदिर) के नाम से जन जाने वाला देवी दुर्गा जी का सिद्ध पीठ जिला आजमगढ़ (उत्तर प्रदेश) में स्थित है यह वाराणसी (बनारस) से ८२ किलोमीटर दूर है आप को इस स्थान के दर्शन के लिए वाराणसी से सीधे आजमगढ़ वाली बस पकड़ के लालगंज (मासिरपुर मोड़) उ...
Ram Shiv Murti Yadav
474
महर्षि दुर्बासा का नाम तो लगभग हर भारतीय जनता हैं. और कुछ को उनकी कहानिया भी पता हैं. लेकिन इस महर्षि कि तपो भूमि कंहा हैं बहुत ही काम लोगो को पता हैं. आजमगढ़ मुख्यालय से ४० किलोमीटर कि दुरी पर बसा हैं एक छोटा सा गाँव. जिसका नाम हैं दुर्वासा . तहसील और ब्लोंक फूलपु...