ब्लॉगसेतु

अभिलाषा चौहान
0
..............................
 पोस्ट लेवल : नवगीत
अभिलाषा चौहान
0
..............................
 पोस्ट लेवल : नवगीत
sanjiv verma salil
0
नवगीत:तोड़ दें नपना*अंदाज अपना-अपनाआओ! तोड़ दें नपना*चोर लूट खाएंगेदेश की तिजोरी परपहला ऐसा देंगेअच्छे दिन आएंगे.भूखे मर जाएंगेअन्नदाता किसानआवारा फिरें युवारोजी ना पाएंगेतोड़ रहे हर सपनाअंदाज अपना-अपना*निज यश खुद गाएंगेहमीं विश्व के नेतावायदों को जुमला कहठेंगा दिख...
sanjiv verma salil
0
नवगीत-पड़ा मावठा *पड़ा मावठा घिरा कोहराजला अँगीठी आगी ताप*सिकुड़-घुसड़कर बैठ बावले थर-थर मत कँप, गरम चाय ले सुट्टा मार चिलम का जी भर उठा टिमकिया, दे दे थापपड़ा मावठा घिरा कोहराजला अँगीठी आगी ताप*आल्हा-ऊदल बड़े लड़ैया टेर जोर से,भगा लड़ैया गारे राई,सुना सवैयाघाघ-भड्डरी बन ज...
अभिलाषा चौहान
0
..............................
 पोस्ट लेवल : नवगीत
अभिलाषा चौहान
0
..............................
 पोस्ट लेवल : नवगीत
0
--प्रतिज्ञादिवस में प्रतिज्ञा कहाँ है?प्रज्ञा जहाँ है, प्रतिज्ञा वहाँ है।।--छाया हुआ रूप का ही नशा है,जवानी में उन्माद ही तो बसा है,दिखावे ने अपना शिकंजा कसा है,प्रतिज्ञादिवस में प्रतिज्ञा कहाँ है?प्रज्ञा जहाँ है, प्रतिज्ञा वहाँ है।।--बिना स्नेह के दीप कैसे जलेगा?ब...
अभिलाषा चौहान
0
..............................
 पोस्ट लेवल : नवगीत
अभिलाषा चौहान
0
..............................
 पोस्ट लेवल : नवगीत
अभिलाषा चौहान
0
..............................
 पोस्ट लेवल : नवगीत