--मर्यादा के साथ में, खूब मनाओ हर्ष।स्वच्छ रहे परिवेश तो, होगा मंगल वर्ष।।--नवसम्वतसर में हुए, चौपट कारोबार।कोरोना के रोग से, जूझ रहा संसार।।--माता के नवरात्र में, करो नियम से काम।घर को मन्दिर समझकर, जपो ओम का नाम।।--बाधाएँ सब दूर हों, करो न मेल मिलाप।अप...
 पोस्ट लेवल : दोहे नवसम्वतसर 2077