ब्लॉगसेतु

ज्योति  देहलीवाल
24
गुजरात के मशहूर स्वामीनारायण संप्रदाय के एक मंदिर के स्वामी कृष्णनस्वरुप दास ने पिछले दिनों एक प्रवचन के दौरान कहा कि, यदि महिलाएं मासिक धर्म के दौरान खाना बनाएंगी तो अगले जन्म में वह श्वान पैदा होगी। सोच और समझ का दुर्भाग्य यहीं खत्म नहीं होता तो इसी संस्थान द्वार...
161
विधा- छंदविषय- नारी नारी आज करती है,जगत के काम सभी ।नौकरी वो करती है,रख स्वाभिमान को।बेटियों को विदा करें,पाल पोस बड़ा करे।सौंपती है वर जी को,कर कन्यादान कों।बड़ों की वो करे सेवा,पूजा से लुभाती देवा।कर अच्छे काम को तो, पाती वरदान वो। अतिथि को मान देत...
ज्योति  देहलीवाल
24
8 मार्च को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता हैं। महिला दिवस पर हर महिला की अपेक्षा होती हैं सभी लोग उसे सम्मान दे और उसकी कद्र करें! उसे एक 'व्यक्ति' के नजरिए से देखें क्योंकि उसका भी अपना स्वतंत्र व्यक्तित्व हैं!! लेकिन होता ये हैं कि हम महिलायें खुद ही खुद को...
shashi purwar
116
  @page { margin: 2cm } p { margin-bottom: 0.25cm; line-height: 120% } आखिर कब तक दर्द सहेंगी क्यों मरती रहेंगी बेटियाँअपराधों के बढते साएपन्नों सी बिखरती बेटियाँकौन बचाएगा बेटी कोभेड़ियों और खूंखार सेनराधर्म की उग्र क्रूरतादरिंदों और हत्यारों सेभ...
ज्योति  देहलीवाल
24
प्रियंका, तुम्हारा दर्द, तुम्हारी चीखें, तुम्हारा लहू, तुम्हारे आँसू और तुम्हारा चकनाचूर विश्वास...इस देश का हर संवेदनशील इंसान महसूस कर रहा हैं। लेकिन प्रियंका, कहते हैं न कि जाके पाँव न फटी बिवाई, वह क्या जाने पीर पराई!! ठीक वैसा ही हाल पूरे देशवासियों का हैं। तु...
अनीता सैनी
12
तल्ख़ियाँ तौल रहा तराज़ू से ज़माने नैतिकता को क्षणभँगुर किया,    दौर फिर वही वक़्त दोहराने लगा,  हटा आँखों से अहम-वहम की पट्टीवक़्त ने फ़रेब का शृंगार किया | संस्कारों में है सुरक्षित आज की नारी,   एहसास यही लगा...
रवीन्द्र  सिंह  यादव
292
अंगारे आँगन में सुलग-दहक रहे हैं, पानी लेने परदेश जाने की नौबत क्यों ?न्यायपूर्ण सर्वग्राही राम राज्य में नारी को इंसाफ़ के लिये दर-ब-दर भटकना क्यों?बाढ़ में सब बह गया फ़सलें हुईं तबाह विदेशों में जलसों की बेहूदा ख़बरें क्यो...
Saransh Sagar
224
साल २०१५ में यही कोई नवम्बर,अक्टूबर का महिना होगा ! परी-चौक ग्रेटर नॉएडा का लोकप्रिय स्थान है वहां जाने के लिए ऑटो का इंतजार कर रहा था होस्टल से ! ताकि छुट्टी में घर जा सकू ! रात काफी थी तो कोई ऑटो वाला दिखा नही लेकिन मै अपना सामान लेकर के पैदल ही चल पड़ा सोचा शारदा...
Saransh Sagar
224
नमस्कार मित्रोबीतो दिनों से जिस रफ्तार से देश में महिलाओ के खिलाफ अपराध बढ़े रहे है ! वो काफी चिंताजनक और दुर्भाग्यपूर्ण है !! और देश की राजधानी दिल्ली में तो स्थिति और भी भयावह हो चुकी है ! भारत में दिल्ली देश का पहला ऐसा स्थान है जहाँ सबसे ज्यादा अपराध के मामले दर...
Saransh Sagar
224
एक बार हनुमानजी ने प्रभु श्रीराम से कहा कि अशोक वाटिका में जिस समय रावण क्रोध में भरकर तलवार लेकर सीता माँ को मारने के लिए दौड़ा, तब मुझे लगा कि इसकी तलवार छीन कर इसका सिर काट लेना चाहिये, किन्तु अगले ही क्षण मैंने देखा कि मंदोदरी ने रावण का हाथ पकड़ लिया, यह देखकर...