ब्लॉगसेतु

Rajeev Upadhyay
364
घर से निकले तो हो सोचा भी किधर जाओगेहर तरफ़ तेज़ हवाएँ हैं बिखर जाओगे।इतना आसाँ नहीं लफ़्ज़ों पे भरोसा करनाघर की दहलीज़ पुकारेगी जिधर जाओगे।शाम होते ही सिमट जाएँगे सारे रस्तेबहते दरिया से जहाँ होगे ठहर जाओगे।हर नए शहर में कुछ रातें कड़ी होती हैंछत से दीवारें जुदा ह...
Rajeev Upadhyay
364
धूप में निकलो घटाओं मेंनहाकर देखोज़िन्दगी क्या है, किताबों कोहटाकर देखो।सिर्फ आँखों से ही दुनियानहीं देखी जाती दिल की धड़कन को भी बीनाईबनाकर देखो।पत्थरों में भी ज़बां होती हैदिल होते हैंअपने घर के दरो-दीवार सजाकर देखो।वो सितारा है चमकने दोयूं ही आँखों मेंक्य...
शिवम् मिश्रा
661
नील गगन पर बैठ कब तक चाँद सितारों से झाँकोगे पर्वत की ऊँची चोटी से कब तक दुनिया को देखोगे आदर्शों के बन्द ग्रन्थों में कब तक आराम करोगे मेरा छप्पर टपक रहा है बनकर सूरज इसे सुखाओ खाली है आटे का कनस्तर बनकर गेहूँ इसमें आओ माँ का चश्मा टूट गया है बनकर शीशा इसे...
 पोस्ट लेवल : 12/10 08/02 निदा फ़ाज़ली
Yashoda Agrawal
3
अपना ग़म लेके कहीं और न जाया जायेघर में बिखरी हुई चीज़ों को सजाया जाये जिन चिराग़ों को हवाओं का कोई ख़ौफ़ नहींउन चिराग़ों को हवाओं से बचाया जाये बाग में जाने के आदाब हुआ करते हैं किसी तितली को न फूलों से उड़ाया जाये ख़ुदकुशी करने की हिम्मत नहीं...
Yashoda Agrawal
3
दिन सलीक़े से उगा रात ठिकाने से रही दोस्ती अपनी भी कुछ रोज़ ज़माने से रही चंद लम्हों को ही बनती हैं मुसव्विर आँखें ज़िन्दगी रोज़ तो तस्वीर बनाने से रही इस अँधेरे में तो ठोकर ही उजाला देगी रात जंगल में कोई शम्मा जलाने से रही फ़ासला चाँद...
 पोस्ट लेवल : निदा फ़ाज़ली
शिवम् मिश्रा
661
नील गगन पर बैठ कब तक चाँद सितारों से झाँकोगे पर्वत की ऊँची चोटी से कब तक दुनिया को देखोगे आदर्शों के बन्द ग्रन्थों में कब तक आराम करोगे मेरा छप्पर टपक रहा है बनकर सूरज इसे सुखाओ खाली है आटे का कनस्तर बनकर गेहूँ इसमें आओ माँ का चश्मा टूट गया है बनकर शीशा इसे ब...
 पोस्ट लेवल : 12/10 निदा फ़ाज़ली
Yashoda Agrawal
3
बहुत मैला है ये सूरजकिसी दरिया के पानी मेंउसे धोकर फिर सुखाएँ फिरगगन में चांद भी कुछ धुंधला-धुंधला हैमिटा के उसके सारे दाग़-धब्बेजगमगाएं फिरहवाएं सो रही हैपर्वतों पर पांव फैलाएजगा के उनको नीचे लाएँपेड़ों में बसाएँ फिरधमाके कच्ची नींदों मेंडरा देते हैं बच्चों क...
शिवम् मिश्रा
661
 माँ  बेसन की सौधी रोटी परखट्टी चटनी - जैसी माँयाद आती है चौका - बासनचिमटा , फुकनी - जैसी माँ ||बान की खुर्री खाट के ऊपरहर आहट पर कान धरेआधी सोयी आधी जागीथकी दोपहरी - जैसी माँ ||चिडियों की चहकार में गूँजेराधा - मोहन , अली - अलीमुर्गे की आवाज़ से खुलतीघर क...
kuldeep thakur
92
1...जीवन क्या है चलता फिरता एक खिलौना है दो आँखों में एक से हँसना एक से रोना है जो जी चाहे वो मिल जाये कब ऐसा होता है हर जीवन जीवन जीने का समझौता है अब तक जो होता आया है वो ही होना है रात अँधेरी भोर सुहानी यही ज़माना है हर चादर में दुख का ताना सुख का बाना है आती सा...
शिवम् मिश्रा
661
नील गगन पर बैठ कब तक चाँद सितारों से झाँकोगे पर्वत की ऊँची चोटी से कब तक दुनिया को देखोगे आदर्शों के बन्द ग्रन्थों में कब तक आराम करोगे मेरा छप्पर टपक रहा है बनकर सूरज इसे सुखाओ खाली है आटे का कनस्तर बनकर गेहूँ इसमें आओ माँ का चश्मा टूट गया है बनकर शीशा इसे बन...
 पोस्ट लेवल : 12/10 निदा फ़ाज़ली