ब्लॉगसेतु

पत्रकार रमेश कुमार जैन उर्फ निर्भीक
477
दोस्तों, मैंने पिछले दस साल से मेरा पेंडिग यह काम (देहदान करने का) भी आखिर कल दिनांक 2 जून 2018 को निपटा ही दिया. इस विषय पर मेरा विचार काफी समय से बना हुआ था. इसी कड़ी में अपने नेत्रदान सन 2006 में ही कर चुका हूँ. जिसको आप इस (गुड़ खाकर, गुड़ न खाने की शिक्षा नहीं दे...
Nitu  Thakur
277
डर व्याप्त सदा हो जिस मन में,जीवित वो मृतक समान लगे,कुंठा से मन व्याकुल प्रति पल,कैसे सुंदर ये जहान लगे ,भयभीत ह्रदय, विचलित लोचन,कर्तव्य क्षीण हो क्षण प्रति क्षण,सब लुप्त हुए हर गुण-अवगुण,गुणवान भुला बैठे हर प्रण ,क्यों करें गुलामी धनिकों की,क्यों स्वाभिमान का नाश...
Bhavna  Pathak
79
  दुनिया भर में विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस मनाया जा रहा है। तल्ख हकीकत यह है कि हाल ही में विश्व में प्रेस की स्वतंत्रता पर जारी की गई एक रिपोर्ट के अनुसार 180 देशों में भारत का स्थान 136 वां है। सरकार तो चाहती ही है कि मीडया उसका गुणगान करे, उसके खिलाफ कुछ न...
पत्रकार रमेश कुमार जैन उर्फ निर्भीक
477
1 दिसम्बर 2015 : मोहजीत अपनी देह से भी नष्टो मोहा होते हैं.2 दिसम्बर 2015 : कथनी और करनी में समरूपता रखना ही महान आत्मा का लक्षण है.3 दिसम्बर 2015 : सच्ची सेवा वह है जिसमें सर्व की दुआओं के साथ ख़ुशी की अनुभूति हो.4 दिसम्बर 20...
पत्रकार रमेश कुमार जैन उर्फ निर्भीक
477
1 नवम्बर  2015 : हर स्थिति में सबको सम्मान देते चलें. घृणित भावनाओं से अपनी रक्षा करने के लिए दूसरों को सम्मान दीजिये. 2 नवम्बर  2015 : कभी-कभी सम्मान देना ही सबसे बड़ा योगदान सिद्ध होता है. 3 नवम्बर  2015 : यदि कोई आप पर हंसता है तो खि...
पत्रकार रमेश कुमार जैन उर्फ निर्भीक
477
1 अक्टूबर 2015 : यदि आप दूसरों की कमजोरियों अपने मन में रखते हैं तब शीघ्र ही वे आपका अंग बन जाएँगी.2 अक्टूबर 2015 : मन के संकल्पों को बीच-बीच में रोकने का अभ्यास कर लें तब थकावट नहीं होगी.  3 अक्टूबर 2015 : परमात्मा को अपना साथी बना लें तब चिंता की रेखाएं चेहर...
पत्रकार रमेश कुमार जैन उर्फ निर्भीक
477
1 सितम्बर 2015 :मान-शान की इच्छा से दिये गए लाख रूपये की तुलना में प्रेम व ईमानदारी से दान किये गए मुट्ठी भर चावल का अधिक महत्व है.2 सितम्बर 2015 : यदि आप हिम्मत का पहला कदम आगे बढायेगे तब परमात्मा की सम्पूर्ण मदद मिल जायेगी.3 सितम्बर 2015 : मुस्कराना, संतुष्टता की...
पत्रकार रमेश कुमार जैन उर्फ निर्भीक
477
1 अगस्त 2015 : जब तक आप प्रयत्न करना बंद न कर दें, अंतिम परिणाम घोषित नहीं किया जा सकता है. 2 अगस्त 2015 : क्या आपको जीवन रूपी वृक्ष का ज्ञान है या आप केवल इसकी टहनियों के नीचे ही खड़े हैं?3 अगस्त 2015 : धन कमाना बुरा नहीं है, धन का दुरूपयोग करना बुरा है.4 अगस्...
पत्रकार रमेश कुमार जैन उर्फ निर्भीक
477
1 जुलाई-2015 : अगर आप सदा स्वयं की दूसरों के साथ तुलना करते रहते हैं तो आप अवश्य ही अहंकार अथवा ईर्ष्या के शिकार हो जायेंगे. 2 जुलाई-2015 : अच्छी पुस्तकें अच्छे साथी की तरह हैं. अश्लील साहित्य हमारे मन को दूषित करता है तथा हमें गलत रास्ते की ओर...
विनय प्रजापति
672
प्रकाश यादव "निर्भीक" | Prakash Yadav Nirbheek अक्सर ख़यालों में आना आपका अच्छा लगता हैकुछ देर ही सही पर साथ आपका अच्छा लगता हैवो बातें वो मुलाकातें जो रह गई अधूरी अब तलकख्वाबों में ही गुफ़्तगू कर आपसे वो सच्चा लगता हैज़िंदगी के रफ़्तार में मशगूल हो गए हम इस कदरजीवन क...