ब्लॉगसेतु

0
दो फाड़ हो चुके....................चूहों की चौपाल मेंघमासान जारी हैदो फाड़ हो चुकेफिर भी ये टुकड़ाअभी बहुत भारी है....तीन चूहेएक रोटीसामर्थ्य नहींनोच दो फाड़ दोउछल कूद जारी है...उधेड़बुन, कशमकशएक कोने से दूजे कोनेदौड़ भाग केंद्र तक जारी है...मन नहीं है बांटने काअनम...
jayant  sahu
0
शासन-प्रशासन मौके की नजाकत को देखते हुए, सोशल मीडिया अथवा अखबार आदि माध्यमों से जनहितकारी फैसलों को त्वरित प्रचारित करवाता है। और जब लाभार्थी उस योजना का लाभ लेने पहुंचते हैं तो कहा जाता है कि अभी आदेश नहीं हुआ है। ऐसा अकसर देखा गया है कि ग्रामीण अंचलों के गरीब किस...
kumarendra singh sengar
0
नेता जी सुभाष चन्द्र बोस के निधन को एक तरह की सरकारी मान्यता देने के बाद कि उनकी मृत्यु 18 अगस्त 1945 को एक विमान दुर्घटना में हो गई थी, अधिसंख्यक लोगों द्वारा इसे स्वीकार कर पाना मुमकिन नहीं हो पा रहा था और ये स्थिति आज भी बनी हुई है. नेताजी की मृत्यु की खबर और बा...
शिवम् मिश्रा
0
आज का दिन भारतवासियों के लिए बहुत ही खास है क्योंकि 77 वर्ष पूर्व इसी दिन नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने अखंड भारत की स्वतंत्र भूमि पर पोर्ट ब्लेयर में आजादी का झंडा फहराया था।  30 दिसंबर, 1943 को नेताजी ने पहली बार भारतीय जमीन पर सबसे पहले तिरंगा फहराया था। यह...
sanjiv verma salil
0
नवगीत: नेता संजीव *ज़िम्मेदार नहीं है नेता छप्पर औरों पर धर देता वादे-भाषण धुआंधार कर करे सभी सौदे उधार कर येन-केन वोट हर लेता सत्ता पाते हीरंग बदले यकीं न करना किंचित पगले काम पड़े पीठ कर लेता रंग बदलता है पल-पल में पारंगत है बेहद छल में केवल अपनी नैय...
 पोस्ट लेवल : नवगीत नेता
Kajal Kumar
0
 
 पोस्ट लेवल : jhola Neta Doctor झोला डॉक्‍टर नेता
rishabh shukla
0
Bhartiya Neta / भारतीय नेता / Indian LeadersBhartiya Neta / भारतीय नेता / Indian Leadersहे श्वेत वस्त्र धारी श्वेतांबर,पगधारी, खादी के भंडार हो तुम |कभी पिटे तुम, कही लुटे तुम,बेशर्मी और बेहयाई के क्या सुन्दर पर्याय हो तुम ||हे श्वेत वस्त्र धारी श्वेतांबर,पगधारी, ख...
sanjiv verma salil
0
व्यंग्य लेख अफसर, नेता और ओलंपिक आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल'*                               ओलंपिक दुनिया का सबसे बड़ा खेल कुंभ होता है। सामान्यत:, अफसरों और नेताओं की भूमिका गौड़...
अमितेश कुमार
0
इरफ़ान खान के निधन के बाद इस तथ्य पर फिर से ध्यान गया कि नैसर्गिक और प्रतिभाशाली अभिनेताओं को, खासकर जो रंगमंच से सिनेमा में गए हैं, अधिक संघर्ष करना पड़ता है. उनकी प्रतिभा टीवी और सिनेमा की उल जुलूल भूमिकाओं में खप जाती है. अधिकांशत: मुख्य भूमिकाएं हासिल नही कर पा...
हर्षवर्धन त्रिपाठी
0
चाइनीज वायरस का प्रकोप खत्म होने के बाद विश्वनेता कौन सा देश होगा। यह प्रश्न अब तर्कों, तथ्यों और आंकड़ों के आधार पर दुनिया में पूछा जाने लगा है। इसके उत्तर में ढेर सारे विकल्प सामने आते हैं, लेकिन एक विकल्प पर आश्चर्यजनक रूप से दुनिया सहमत होती जा रही है कि अमेरिक...