ब्लॉगसेतु

विजय राजबली माथुर
168
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं By Atul Modi , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Feb 01, 2019पीपल का पेड़ टैनिक एसिड, एसपारटिक एसिड, फ्लेवोनोइड्स, स्टेरॉयड, विटामिन, मेथिओनिन, ग्...
kumarendra singh sengar
30
उरई के शांतिनगर में संचालित अंध विद्यालय की प्रबंध समिति से विवाद निपटारे में दोनों नेत्रहीन शिक्षकों तथा सभी नेत्रहीन विद्यार्थियों को इस वर्ष जुलाई में विद्यालय छोड़ना पड़ा था। इसके बाद से उनको रहने का ठिकाना पुष्पांजलि विवाह गृह के मालिक द्वारा निःशुल्क उपलब्ध करव...
kumarendra singh sengar
30
एक समाचार पढ़ने को मिला कि मात्र छत्तीस घंटे जीवित रहे शिशु द्वारा दो नेत्रहीन व्यक्तियों को नेत्रदान करके रौशनी दी गई. किसी गंभीर इन्फेक्शन के चलते नवजात शिशु चंद घंटे ही इस दुनिया में रहा. उसके इलाज के भागदौड़ में लगे परिजन उसका नाम तक न सोच पाए थे. बाद में उसको दफ...
शिवम् मिश्रा
3
नमस्कार साथियो, आज सुबह-सुबह समाचार पत्र में मात्र छत्तीस घंटे जीवित रहे शिशु द्वारा दो नेत्रहीन व्यक्तियों को रौशनी दिए जाने की खबर पढ़ी. किसी गंभीर इन्फेक्शन के चलते नवजात शिशु चंद घंटे ही इस दुनिया में रहा. उसके इलाज के भागदौड़ में लगे परिजन उसका नाम तक न सोच पाए...
shivraj gujar
135
निवासदिल्लीपहली राजस्थानी फिल्ममाटी का लाल मीणा-गुर्जरअब तक    दो राजस्थानी फिल्मों माटी का लाल मीणा-गुर्जर व भंवरी में अभिनय। दोनों फिल्में रिलीज।    कैरियर की शुरुआत हिंदी फिल्म मिस्टर मजनू से।  भौजपुरी फिल्मों में भी सक्रिय। हा...
 पोस्ट लेवल : कलाकार अभिनेत्री
पत्रकार रमेश कुमार जैन उर्फ निर्भीक
475
दोस्तों, मैंने पिछले दस साल से मेरा पेंडिग यह काम (देहदान करने का) भी आखिर कल दिनांक 2 जून 2018 को निपटा ही दिया. इस विषय पर मेरा विचार काफी समय से बना हुआ था. इसी कड़ी में अपने नेत्रदान सन 2006 में ही कर चुका हूँ. जिसको आप इस (गुड़ खाकर, गुड़ न खाने की शिक्षा नहीं दे...
kumarendra singh sengar
30
आज, चार जनवरी को दृष्टिबाधितों के मसीहा एवं ब्रेल लिपि के आविष्कारक लुई ब्रेल का जन्म हुआ था. उनका जन्म फ्रांस के छोटे से गाँव कुप्रे में 4 जनवरी 1809 को मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ था. महज तीन साल की उम्र में एक हादसे में उनकी दोनों आँखों की रौशनी चली गई थी. हर बात...
Tejas Poonia
377
गुजरे जमाने की खूबसूरत और बेहतरीन अभिनेत्रि...
विजय राजबली माथुर
168
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं
prabhat ranjan
31
शालिनी श्रीनेत्र आजकल कुछ सच्चे किरदारों से मिलकर उनकी उनके बारे में लिख रही हैं जिनका जीवन अपने आप में कम अफसाना नहीं रहा. ऐसी ही एक कहानी एक लोक-कलाकार और एक चित्रकार, सिरेमिक कलाकार की प्रेम कहानी आज प्रस्तुत है- मॉडरेटर ====================================...