ब्लॉगसेतु

sanjiv verma salil
6
सामयिक आल्हा,  *मचा महाभारत भारत में, जन-गण देखें ताली पीट दहशत में हैं सारे नेता, कैसे बचे पुरानी सीट? .हुई नोटबंदी, पैरों के नीचे, रही न हाय जमीन कौन बचाए इस मोदी से?, नींद निठुर ने ली है छीन.पल भर चैन न लेता है खुद, दुनिया भर में करता धू...
Akhilesh Sharma
365
नोटबंदी के बाद से कैश लेस होने की बात चल रही है। मोदी सरकार का भी जोर अब कैश लेस या लेस कैश होने पर है। हालांकि सरकार से ये सवाल पूछा जा रहा है कि नोटबंदी का मकसद अगर लेस कैश भारत बनाना था तो सरकार ने इसकी ठीक से तैयारी क्यों नहीं की?सरकार ने बिना तैयारी के नोट बंद...
रणधीर सुमन
15
उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जनपद में आर्याव्रत ग्रामीण बैंक में मजदूर पेशा भगवान दीन गौतम की बैंक से रुपया निकालने की लाइन में लगे हुए ही मौत हो गयी. वहीँ जनपद में लाइन में लोगों का बेहोश हो जाना, दो-दो दिन तक रुपया न प्राप्त होना आम आदमी के लिए बड़ी मुसीबत बनता जा रहा...
Akhilesh Sharma
365
नोट बंदी का एक महीना पूरा होने के बाद लोगो में इसके प्रति उत्साह और समर्थन में धीरे-धीरे कमी आने लगी है। इसकी बड़ी वजह लोगों के हाथ में नकदी न आना है। बैंकों के सामने लाइनें वैसी ही लगी हैं जैसी शुरुआत में थीं। एटीएम से नकदी निकालने की सीमा न हटना और बैंकों से लोगो...
रणधीर सुमन
15
8 नवम्बर को विमुद्रीकरण की घोषणा कि जाती है लेकिन सत्तारूढ़ दल के लोगों को पहले से ही मालूम था कि एक हज़ार वा पांच सौ के नोट सरकार बंद करने जा रही है जिसके चलते उन लोगों ने अपने हज़ार व पांच सौ के नोटों को सौ, पचास, बीस व दस के नोटों के रूप में परिवर्तित कर लिया था और...
देवेन्द्र पाण्डेय
113
सोंचता हूँक्या करेंगे अँधेरा देखने वालेअगर सत्ता उन्हीं की हो?फाँसी चढ़ा देंगे जिन्होंने छपाई की नहीं पक्कीया बाँट देंगे घरों में मशीनेछाप लो नोटें अपने मन मर्जीक्या करेंगे?कोंच देंगे कलम को बायें गाल पर चाँद केया तोड़ देंगे नोकसो रहेंगे चैन से अंधेरी गुफा में!क्या क...
 पोस्ट लेवल : कविता नोट बंदी
रणधीर सुमन
15
तंजीम-ए-इन्साफ के महासचिव अमीक जामेई वा समाजवादी चिन्तक फ्रैंक हुजुर बाराबंकी। मोदी की नोटबंदी नीति के कारण लाखों लोग बेरोजगार हो चुके हैं. खेती चैपट हो चुकी है, व्यापार ठप है. वहीँ, लाखों करोड़ रुपये की कर्ज माफी मोदी सरकार के नियंत्रक कॉर्पोरेट सेक्टर को दी जा चुक...
रणधीर सुमन
15
बाराबंकी। नोटबंदी के नाम देश का कालाधन निकालने की मोदी सरकार की योजना एक बड़ा छलावा है। मोदी जी यदि अगले चन्द वर्ष तक इसी तरह मनमाने रवैये देशहित व समाज हित को त्याग कर लेते रहे तो देश के सामने गम्भीर आर्थिक परिणाम खड़े हो जायेगें।     लोक संघर्ष पत्रि...
देवेन्द्र पाण्डेय
113
उजला काला हो गया, बंद हुआ जब नोट.झटके में जाहिर हुआ, सबके मन का खोट..चलते-चलते रुक गया, अचल हुआ धन खान.हाय! अचल धन पर गड़ा, मोदी जी का ध्यान..जोर-जोर से हो रहा, चोर-चोर का शोर.कोई काजल चोर है, कोई अँखिए चोर..लोभ लपक बच्चा बढ़े, बूढ़ा पकड़े मोह।निरवंशी घातक बड़ा, व्यापे...
देवेन्द्र पाण्डेय
113
नोट बंदी के फैसले के बाद लोहे के घर में बदहवास 500 के पुराने नोट लिये यात्री अब नहीं दिखते। 8 तारीख के बाद तो यह स्थिति थी कि लालच देकर यात्री भिखारी/वेंडरों से छुट्टा मांग रहे थे। एक भिखारी ने तो झटक ही दिया था-हमको बेवकूफ समझे हो क्या?अब लोग सिर्फ तारीफ करते हुए...