ब्लॉगसेतु

Kajal Kumar
15
विजय राजबली माथुर
127
नहीं मिला लाक डाउन का लाभ============================लाक डाउन के औचित्य- अनौचित्य पर दुनियां में गंभीर बहस छिड़ी हुयी है। यह बहस भारत में अभी भले ही शैशवकाल में हो पर दुनियां अन्य हिस्सों में काफी ज़ोर पकड़ चुकी है।अब ब्रिटेन की स्टैनफोर्ट यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर और न...
Kajal Kumar
15
विजय राजबली माथुर
74
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं )  संकलन-विजय माथुर, फौर्मैटिंग-यशवन्त यश
Kajal Kumar
15
विजय राजबली माथुर
97
 * मोदी ने झूठ से भरे और निचले स्तर के भाषण किए और पैसे तथा नौकरशाही के इस्तेमाल में कोई कसर नहीं छोड़ा। लेकिन वही मोदी लोकप्रिय साबित हुए क्योंकि कारपोरेट पूंजीवाद उनके पीछे खड़ा था। मीडिया, सोशल मीडिया और प्रचार में उन्होंने हजारों करोड़ खर्च किया और झूठ क...
PRAVEEN GUPTA
86
मल्टीनेशनल कंपनी की नौकरी छोड़ डेयरी से सालाना करोड़ों की कमाई कर रहे दीपक गुप्तासिंगापुर में कृषि क्षेत्र से जुड़ी एक मल्‍टीनेशनल कंपनी में तीस वर्षों की लगी-लगाई नौकरी छोड़कर दीपक गुप्ता इन दिनों नाभा (पंजाब) में हिमालय क्रीमी डेयरी से सालाना करोड़ों रुपए की कमाई...
शरद  कोकास
565
दोस्त अपने मुल्क की किस्मत पे रंजीदा न हो प्रतिदिन की भांति तैयार होकर हम लोग ट्रेंच पर पहुँच गए । आज हमारा उत्खनन शिविर में चौदहवां दिवस था । ट्रेंच पर पहुँचकर हम लोगों ने अपनी कापियों पर नज़र डाली और कल छोड़े हुए काम की तस्दीक की । अब हमें कल से आगे के उत्खनन...
ANITA LAGURI (ANU)
424
जीवन में चढ़ते-घटते प्रपंच का बवालआज तड़के दर्शन हो गएफिर से एक बवाल के चीख़ती नज़र  आईरमा बहू सास के तीखे प्रहार से।कर अनसुनी क़दम ढोकरबढ़  गया मैं सू गली का चौराहा           &nb...
Bhavna  Pathak
82
कहानी कोई खास नहीं थी पर राजन भाई जब पीछे पड़ गए तो कहां जान बच सकती थी। बिल्कुल बच्चों की तरह जिद करने लगते हैं। गनीमत है कि बच्चों की तरह जमीन पर लोटने नहीं लगते। स्टडीरूम में ंमेरे हाथ में यह सूजा क्या देख लिया बस सीबीआई वालों की तरह करने लगे सवाल पर सवाल।...