पटाखा फिल्म रिलीज होते ही देख डाली थी । साहित्य का छात्र होने के नाते भी और सिनेमा में विशेष रूचि के चलते । लेकिन उस फिल्म की समीक्षा बीमार होने के चलते तथा कुछ अन्य कारणों से नहीं कर पाया था । उनमें एक कारण यह भी था कि “दो बहनें” कहानी जब तक पढ़ने को न मिले तब तक न...