ब्लॉगसेतु

0
छिपा क्षितिज में सूरज राजा,ओढ़ कुहासे की चादर।सरदी से जग ठिठुर रहा है,बदन काँपता थर-थर-थर।।--कुदरत के हैं अजब नजारे,शैल ढके हैं हिम से सारे,दुबके हुए नीड़ में पंछी,हवा चल रही सर-सर-सर।सरदी से जग ठिठुर रहा है,बदन काँपता थर-थर-थर।।कोट पहन और ओढ़ रजाई,दादा जी ने आग जल...
0
लक्ष्य तो मिला नहीं, उसूल नापता रहा।काव्य की खदान में, धूल चाटता रहा।।--पथ में जो मिला मुझे, मैं उसी का हो गया।स्वप्न के वितान में, मन गगन में खो गया।शूल की धसान में, बबूल छाँटता रहा।काव्य की खदान में, धूल चाटता रहा।।--चेतना के गाँव में, चेतना तो सो गयी।अन्धकार छा...
 पोस्ट लेवल : उसूल नापता रहा गीत
Kajal Kumar
0
Kajal Kumar
0
Kajal Kumar
0
Kajal Kumar
0
ज्योति  देहलीवाल
0
फिलहाल कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में अपना कहर ढाया हुआ हैं। आज मैं कोरोना को हराने के लिए हमें क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए इस बारे में बात नहीं करुंगी क्योंकि ये सब बातें तो हर नागरिक टी वी पर, सोशल मीडिया पर देख और सून रहा हैं। मुझे पूरा विश्वास हैं...
Kajal Kumar
0
Sanjay  Grover
0
ग़ज़लकोई पत्ता हरा-सा ढूंढ लियातेरे घर का पता-सा ढूंढ लियाजब भी रफ़्तार में ख़ुद को खोयाथोड़ा रुकके, ज़रा-सा ढूंढ लियाउसमें दिन-रात उड़ता रहता हूंजो ख़्याल आसमां-सा ढूंढ लियाशहर में आके हमको ऐसा लगादश्त का रास्ता-सा ढूंढ लियातेरी आंखों में ख़ुदको खोया मगरशख़्स इक लापता-सा...
PRAVEEN GUPTA
0
अग्रवालों का अब तक का सबसे बडा सेवा कार्यश्री अग्रसेन इंटरनैशनल अस्पताल।यह अग्रवालों द्धारा किया गया अब तक का सबसे बडा जनहित कार्य है । यह अस्पताल दिल्ली के रोहिणी के सैक्टर-22 में बना है, जो ढाई एकड के क्षेत्र में फैला है । इसे कल से चालू कर दिया जायेगा । इसमें कर...