ब्लॉगसेतु

सुशील बाकलीवाल
431
       जी हाँ ! "मन चंगा तो कठौती में गंगा" यह कहावत आपने अनकों बार सुनी होगी, अलग-अलग स्थानों पर इसके अलग-अलग अर्थ भी रहे होंगे, किंतु शरीर स्वास्थ्य के मसले पर भी ये पूरी तरह से फिट बैठती है, कैसे-       जब हम कि...
दीपक कुमार  भानरे
279
है पथ पग पग पर पथरीले , अभी दूर है मंजिले।कितनी सहूलियतें त्यागनी है ,कितनी ही रातें जागनी है , कितनी बाधायें लांघनी है ,कठिन परिस्थितियां साधनी है ,पड़ जायेँगे पाँव में छाले ,है पथ पग पग पर पथरीले , अभी तो दूर है मंजिले।होती आंख मिचोली अनायास है ,कभी दूर तो कभ...
 पोस्ट लेवल : पग path पथ pag pathrile पथरीले
विजय राजबली माथुर
168
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैंहल्दी हमारे शरीर के लिए फायदेमंद होती है, यह आप भी जानते हैं। हल्दी दर्द, सूजन और इंफेक्शन को दूर करती है। मसाले के अलावा हल्दी का प्रयोग कई तरह के घरेलू...
 पोस्ट लेवल : हल्दी किडनी पथरी
विजय राजबली माथुर
168
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं  
Ravindra Pandey
480
कुछ पल जो अकेला होता हूँ,शब्दों की माला पिरोता हूँ,लिखता हूँ अपने दिल की बात,हँस कर आँखों को भिगोता हूँ..कुछ पल जो....दिल के जख्म दिखाएं किसे,ये दर्द करें किसको बयां,पथरीली ये जमीन हुई,चुभता है अब आसमां,इस लब पे बिखेरे हुए हँसी,मैं दिल ही दिल में रोता हूँ...लिखता ह...
विजय राजबली माथुर
168
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं  
विजय राजबली माथुर
168
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं
विजय राजबली माथुर
168
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं
Satyan Srivastava
46
पथरी(Pathri)शुरुआत में मामूली सा लगने वाला रोग है और आजकल यह आम लोगों में होने लगा है आयुर्वेद में इसे अश्मरी कहा जाता है इससे मूत्र नलिका में दर्द और सूजन आती है तथा पेशाब करते समय पीड़ा व रुक-रुक कर पेशाब होना व कभी-कभी पथरी टूट के अंदरूनी भाग को घायल कर दे तो रक्...
 पोस्ट लेवल : पथरी उपचार
सुशील बाकलीवाल
431
            सबसे पहले नींबू को धोकर फ्रीज़र में रखिए । ८ से १० घंटे बाद वह बर्फ़ जैसा ठंडा तथा कड़ा हो जाएगा । अब उपयोग मे लाने के लिए उसे कद्दूकस कर लें ।         &nb...