पाँच क्षणिकाएँ---(1) 'परिवर्तन'जीवन में परिवर्तन जरूरी होता है उसे उत्कृष्ट बनाने के लिए जैसे, कुछ समय पहले अपनी ही रची हुई कविता में परिवर्तन करना।(2) 'कब्र में'ज़िन्दगी के दरवाजे पर हलचल कर रही है मौत अन्त समय में ठंडक कुछ ज़्यादा ही सता र...