ब्लॉगसेतु

शरद  कोकास
568
यद्यपि स्वयं का जन्म मनुष्य के वश में नहीं है न ही वह इसके लिए  उत्तरदायी है लेकिन जन्म लेने के पश्चात यह जीवन और यह शरीर उसे इतना प्रिय लगने लगता है कि लाख कष्टों के बावज़ूद वह इसे जीवित रखने का भरसक प्रयास करता है । यह स्वाभाविक भी है । वह उन समस्त सुख-सुविधा...
sanjiv verma salil
7
नवगीत *पुनर्जन्म हर सुबह हो रहा पुनर्मरण हर रात। चलो बैठ पल दो पल कर लें मीत! प्रीत की बात।*गौरैयों ने खोल लिए परनापें गगन विशाल।बिजली गिरी बाज परउसका जीना हुआ मुहाल।हमलावर हो लगा रहा हैलुक-छिप कर नित घातपुनर्जन्म हर सुबह हो रहापुनर्मरण हर रात।*...
Kailash Sharma
452
क्यों करते होप्रेम या वितृष्णा  जीवन और मृत्यु से,जियो जीवन सम्पूर्णता से हो कर निस्पृह उपलब्धियों से,रहो तैयार स्वागत कोजब भी दे दस्तक मृत्यु.रखो अपने मन को मुक्त भ्रम और संशय से,पाओगे जीवन में प्रारंभ निर्वाण का और मृत्यु में अनुभव&n...
केवल राम
319
हालाँकि जहाँ तक आत्मा की बात है उस विषय में हमें स्पष्ट हो जाना चाहिए कि यह ही सम्पूर्ण ब्रह्मंड में फ़ैली चेतना का ही एक रूप है. गतांक से आगे ....!!! यह आत्मा इस चेतन सत्ता का ही प्रतिरूप है, दूसरे शब्दों में ऐसा भी कह सकते हैं कि यह आत्मा इस पांच तत्व परमसत्त...
राजीव कुमार झा
349
पुनर्जन्म को लेकर प्राचीन भारतीय साहित्य और पुराण कथाओं ने वैसे ही दुनियां भर में सरगर्मी फैला दी है.संभवतः इसीलिए अब यूरोप और अमेरिका जैसे नितांत आधुनिक और मशीनी देश भी पुनर्जन्म का वैज्ञानिक आधार खोजने लगे हैं.अमेरिका में वर्जीनियां विश्वविद्यालय ने तो एक परा – म...
 पोस्ट लेवल : पुनर्जन्म
Kailash Sharma
175
अंतराल जीवन और मृत्यु का क्यों होता कभी सुख दायक कभी पीड़ा से भरा, क्यों मिलता है कभी दुःखकरने पर सत्कर्म भी और जो लीन पाप कर्म मेंक्यों पाते वे सुख समृद्धि.मानता हूँ प्रभु, कर्म पर ही है मेरा अधिकार और मेरे ही कर्म होकर लिप्त आत्मा मेंकरते प्रवेश नव शरीर में पुनर्...
हंसराज सुज्ञ
239
मृत्यु के बाद जीवन है या नहीँ, स्वर्ग नरक है या नहीं, कर्मफल है या नहीं, पूर्वजन्म पुनर्जन्म है या नहीं और अगर है तो जन्म-मरण से मुक्ति है या नहीँ. ये प्रश्न उन्हें अधिक सालते है जो दिखावा तो सद्कर्म का करते है किंतु उनकी अंतरआत्मा में संशय बना रहता है कि इस तरह के...