ब्लॉगसेतु

ANITA LAGURI (ANU)
321
"वाह...!  क्या जादू है तुम्हारे हाथों में,तुम्हारे हाथों से बनी चाय पीकर तो लगता है कि जन्नत के दर्शन हो गये।  सच कहता हूँ सुधा, शादी की पहली सुबह और आज 50 साल बीत जाने के बाद भी तुम्हारे हाथों की बनी चाय में कोई फ़र्क़ नहीं आया।" श्याम जी कहते-कह...
Sanjay  Grover
304
वे जो स्कूल-कॉलेज में पढ़ाते भी हैं और स्टेशनरी भी चुराते हैं, जो बाढ़ और अकाल के नाम पर दफ़्तर में आई राशि ख़ुद खा जाते हैं, जो टैक्स नहीं देते, जो भरपूर ब्लैक-मनी होते हुए भी घर में हवा-पानी के लिए छोड़ी गई जगह में कमरे बना लेते हैं फिर शहर को कंक्रीट का जंगल भी बताक...
विजय राजबली माथुर
77
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं ) संकलन-विजय माथुर, फौर्मैटिंग-यशवन्त यश
शिवम् मिश्रा
16
सभी हिंदी ब्लॉगर्स को मेरा सादर नमस्कार।पुरुषोत्तम दास टंडन (अंग्रेज़ी: Purushottam Das Tandon, जन्म- 1 अगस्त, 1882, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश; मृत्यु- 1 जुलाई, 1962) आधुनिक भारत के प्रमुख स्वाधीनता सेनानियों में से एक थे। वे 'राजर्षि' के नाम से भी विख्यात थे। उन्होंन...
sanjiv verma salil
5
शोध  लेख राम कथा पर आधारित उड़िया काव्य कृति 'बैदेहीश विलास" में पुरुषायित आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' *राम कथा भारत की सभी भाषाओँ हुए विश्व की अन्य अनेक भाषाओँ में कही गयी गई। सामान्यत: राम को मर्यादा पुरुषोत्तम के रूप में वर्णित किया गया है।...
sanjiv verma salil
5
एक रचना पुरुष *तुम्हें न देखूँ तो शिकायत किया करता हूँ अदेखापुरुष हूँ न..तुम्हें देखूँतो शिकायतदेखता हूँपुरुष हूँ न..काश तुम लोआँख मुझसे फेरमुझको कर अदेखाजी सकूँ मैं चैन सेपुरुष हूँ न.***salil.sanjiv@gmail.com#दिव्यनर्मदा#हिंदी_ब्लॉगरhttp://divy...
 पोस्ट लेवल : purush kavita कविता पुरुष
sanjiv verma salil
5
http://divyanarmada.blogspot.in/
PRAVEEN GUPTA
104
123
केदारनाथ जलप्रलय ---माता प्रकृति का श्राप एवं जगत पिता द्वारा दिया गया दंड ---      वह सर्वश्रेष्ठ, जगतपिता अपनी सुन्दरतम सृष्टि, प्रकृति के विनाश के लिए अपनी सर्वश्रेष्ठ रचना, अपने पुत्र मानव को भी नहीं छोड़ता उसके अपराधों का दंड देने...
123
पुस्तक चर्चा-----इन्द्रधनुष ----स्त्री-पुरुष विमर्श पर उपन्यास --- -----लेखक --डा श्याम गुप्त ----------समीक्षक -डा वी वे ललिताम्बा, प्राचार्य  व विभागाध्यक्ष ,हिन्दी विभाग , मैसूर विश्व विद्यालय -------प्रकाशक --सुषमा प्रकाशन , आशियाना, लखनऊ डा ललित...