ब्लॉगसेतु

shashi purwar
103
@page { margin: 2cm } p { margin-bottom: 0.25cm; line-height: 115% } a:link { so-language: zxx } पुष्पा जी का दोहा संग्रह मुझे काफी समय पहले मिल गया था. किंतु व्यस्तता व अपरिहार्य कारणों से संग्रह हेतु वक्त नहीं निकाल सकी. किसी रचनाकार की कृति पर बिना अनुभ...
 पोस्ट लेवल : पुस्तक समीक्षा
Lokendra Singh
104
अपना वीडियो पार्क पर इस पुस्तक का वीडियो ब्लॉग देखेंसूचनाओं का आदान-प्रदान करना हम सबका मानव स्वभाव है। इस प्रवृत्ति का एक ही अर्थ है कि प्रत्येक व्यक्ति के भीतर किसी न किसी रूप में ‘एक पत्रकार’ बैठा है। किसी मीडिया संस्थान के प्रशिक्षित पत्रकार की भाँति वह भी समाज...
वंदना अवस्थी दुबे
366
तमाम मिथक तोड़ता है उपन्यास “फाग लोक के ईसुरी” लॉक डाउन का ये समय तमाम लम्बित किताबों को पढ़ते हुए गुज़ार रही हूं. इसी बीच चार दिन पहले, मुझे मेरी बाल सखी, लब्ध प्रतिष्ठ कथाकार/साहित्यकार, डीएवी कॉलेज कानपुर में एसोसियेट प्रोफ़ेसर डॉ. दया दीक्षित का नया उपन...
Lokendra Singh
104
- सुरेश हिंदुस्थानी राष्ट्रवाद सदैव से चर्चा एवं आकर्षण का विषय रहा है। आज के परिदृश्य में तो यह और अधिक चर्चित है। सब जानना चाहते हैं कि आखिर राष्ट्रवाद क्या है? राष्ट्रवाद पर इतनी बहस क्यों होती है? क्यों कुछ लोग राष्ट्रवाद का विरोध करते हैं? राष्ट्रवाद और म...
shashi purwar
103
'जोगिनी गंध' - त्रिपदिक हाइकु प्रवहित निर्बंध  आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल'   हिंदी की उदीयमान रचनाकार शशि पुरवार के  हाइकु संकलन ''जोगिनी गंध'' को पढ़ने से पूर्व यह जान लें कि शशि जी जापानी ''उच्चार'' को हिंदी में ''वर्ण'' में बदल ले...
 पोस्ट लेवल : पुस्तक समीक्षा
उन्मुक्त हिन्दी
108
इस चिट्ठी में, गिलियन थॉमस (Gillian Thomas) की लिखी पुस्तक 'बिकॉस ऑफ सेक्स' (Because of Sex) की समीक्षा है। अमेरिका में, अफ्रीकन अमेरिकन (अश्वेत) लोगों के साथ हमेशा भेदभाव रहा। इसी पर प्रसिद्ध उपन्यास ‘टु किल अ मॉकिंगबर्ड’ लिखा गया। यह पुस्तक एक वास्तविक घटना तथा...
4
संवेदनाओं के स्वर हैं“भावावेग”       कुन्दन कुमार का नाम साहित्यजगत के लिए अभी अनजाना है। हाल ही में इनका काव्य संग्रह “भावावेग” प्रकाशित हुआ है। जिसमें कवि की उदात्त भावनाओं के स्वर हैं।     मेरे पास समीक्षा की...
उन्मुक्त हिन्दी
108
यह चिट्ठी जाने माने सैद्धांतिक भौतिक विज्ञानी और गणितज्ञ फ्रीमैन डायसन को श्रद्धांजलि है। फ्रीमैन डायसन का यह चित्र विकिपीडिया के सौजन्य से  फ्रीमैन डायसन का जन्म १५ दिसंबर १९२३ को विलायत में के ऐसे परिवार में हुआ था जिसका विज्ञान से दूुर-दूर तक नाता नहीं...
सुबोध  श्रीवास्तव
247
                        यूँ तो इन्द्रधनुष सात रंगों का होता है, पर किसी भी ज़िंदगी में सिर्फ इतने ही रंग नहीं होते…। जीवन के अलग अलग रंगों को अपनी तेरह कहानियों में पिरो कर श्री हरभजन सिंह मेहरोत्...
 पोस्ट लेवल : पुस्तक समीक्षा
उन्मुक्त हिन्दी
108
माइकेल क्राइटेन, मेरे प्रिय विज्ञान कहानी लेखकों में से एक हैं। उन्होंने एक रोचक उपन्यास 'द एन्ड्रौमिडा स्ट्रेन' नाम से लिखा है।इस चिट्ठी में, कॉरौना वाइरस की चर्चा के साथ, इस पुस्तक की समीक्षा है। वुहान शहर, मध्य चीन का सबसे महत्वपूर्ण शहर है। यह  राजनीतिक, आ...