ब्लॉगसेतु

usha kiran
465
जब कोई आँचल मैं चाँद सितारे भरकर अँधेरे को नकारने लगे , तूफानों को ललकारे , मुट्ठी में आसमान को भरने के स्वप्न देखने लगे ,जब कल्पना वक्त की निर्मम लहरों से चुराई रेत ,बन्द सीप ,शंख आदि बटोर कर अनुभूतियों का घर सजाने लगे, वेदना के पाखी शब्दों के नीड़ तलाशने लगें, लह...
usha kiran
465
दुखां दी कटोरी: सुखां दा छल्ला’~~~~~~~~~~~~~~~~~~~कभी-किसी की एक रचना ऐसी आती है कि मन करता है उसका लिखा अगला-पिछला सब कुछ एक साँस में पढ़ जाएं।रूपा पहली बात तो ये कि आपको ख़ूब लिखना चाहिए हम और पढ़ना चाहते ऐसी सुंदर जादू रचने वाली ,सम्मोहित करने वाली कहानियाँ ।रुप...
 पोस्ट लेवल : पुस्तक - समीक्षा
usha kiran
465
REPLY                       पूरी किताब लिखकर छपवाने के बाद पुस्तक की लेखिका शिखा वार्ष्णेय जब बेहद, मासूमियत से हमसे पूछतीं हैं कि मेरी किताब ‘देशी चश्मे से लंदन डायरी’ किस विधा के अन्तर्गत आएगी तो उनकी सा...
 पोस्ट लेवल : पुस्तक - समीक्षा
usha kiran
465
रश्मि कुच्छल की प्रतिक्रिया ताना-बाना पर—इस सफरनामे का आवरण ही लेखिका यानी  डॉ . उषाकिरण दी का व्यक्तित्व है ,घनी कालिमा को चीरकर उभरता सुनहरा सूरज ।रेखाओं की चितेरी जादू भरी उंगलियां कब इन रेखाओं को शब्द बना देती हैं और कब ये कवितायों की भावभूमि के उड़ते मेघ...
 पोस्ट लेवल : पुस्तक - समीक्षा
usha kiran
465
FEB25ताना बाना ( काव्यसंग्रह )सुन लो            जब तक कोईआवाज देता हैक्यूँ कि...सदाएं  एक वक्त के बादखामोश हो जाती हैंऔर ख़ामोशी ....आवाज नहीं देती!!   डॉ उषा किरणकितनी सच्ची पंक्तियां है यह। हम वक़्त रहते अपने ही दुनिया...
 पोस्ट लेवल : पुस्तक - समीक्षा
usha kiran
465
लेखनी और तूलिका का मिलन...उषा किरण============================"कहते हैं एक चित्र हजार शब्दों की ताक़त रखता है। ऐसे में अगर चित्रों को दमदार शब्दों का भी साथ मिल जाए, तो फिर इस रचनात्मक संगम से निकली कृति सोने पर सुहागा ही है।" ये शब्द हैं प्रख्यात गायक कुमार विश्वा...
 पोस्ट लेवल : पुस्तक - समीक्षा
usha kiran
465
 पोस्ट लेवल : पुस्तक - समीक्षा