ब्लॉगसेतु

3
 इतनी जल्दी क्या है बिटिया, सिर पर पल्लू लाने की।अभी उम्र है गुड्डे-गुड़ियों के संग,समय बिताने की।।मम्मी-पापा तुम्हें देख कर,मन ही मन हर्षाते हैं।जब वो नन्ही सी बेटी की,छवि आखों में पाते है।।जब आयेगा समय सुहाना, देंगे हम उपहार तुम्हें।तन मन धन से सब स...
सुशील बाकलीवाल
342
     प्रायः सभी एकल भारतीय परिवारों में यदि बच्चे बहुत छोटे न रहे हों और मुख्य गृहिणी नौकरी-पेशा न हो तो एक समस्या अक्सर सामने आती है और वो है पति के काम पर व बच्चों के अपने स्कूल-कॉलेज निकल जाने के बाद सबके बारे में सोचते रहना और उनकी वापसी की...
3
--अजनबी ख्वाब में आता क्यों हैहाले-दिल अपना सुनाता क्यों है--अपने लब पे अधूरी प्यास लिएतिशनगी अपनी बुझाता क्यों है--कौन से जन्म का ये नाता हैहमको अपना वो बताता क्यों है--खुली आँखों में रूबरू नहीं होताअपना अधिकार जताता क्यों है--बात करता है चाँद-तारों कीझूठ से अपने...
3
--यज्ञ-हवन करके बहन, माँग रही वरदान।भइया का यमदेवता, करना शुभ-कल्याण।।--भाई बहन के प्यार का, भइया-दोयज पर्व।अपने भइया पर करें, सारी बहनें गर्व।।--तिलक दूज का कर रहीं, सारी बहनें आज।सभी भाइयों के बने, सारे बिगड़े काज।।--रोली-अक्षत-पुष्प का, पूजा का ले थाल।बहन आरती क...
3
--कुलदीपक की सहचरी, घर का है आधार।बहुओं को भी दीजिए, बेटी जैसा प्यार।।-- बाबुल का घर छोड़कर, जब आती ससुराल।निष्ठा से परिवार तब, बहुएँ सहीं सम्भाल।।नहीं सुता से कम यहाँ, बहुओं का प्रतिदान।भेद-भाव को त्यागकर, उनको देना मान।।बहुओं से घर का चमन,...
3
बेटी से आबाद हैं, सबके घर-परिवार।बेटो जैसे दीजिए, बेटी को अधिकार।।--चाहे कोई वार हो, कोई हो तारीख।दिवस सभी देते हमें, कदम-कदम पर सीख।।जगदम्बा के रूप में, जो लेती अवतार।उस बेटी से कीजिए, बेटो जैसा प्यार।।बेटी रत्न अमोल है, क...
VMWTeam Bharat
107
आपके अमूल्य सुझाव आमंत्रित है |
PRABHAT KUMAR
156
होली का प्यारा लम्हा और तुम्हें ढेर सारा प्यार...............एक आरजू आज भी जिंदा हैहो वक़्त खूबसूरत इतना कि हम निकल पड़ें तुम्हारे करीब से बहुततुम छू न सको बस मुस्कुरा दो, लगे कि हम जिंदा हैंएक आरजू...तुम्हारी शरारतों से ज्यादा मोहब्बत कर ली थी मैंने शायदइसलिये तुम ज...
Yashoda Agrawal
6
जो दिखता है वो होता तो नहीं हैजो होता है वो सोचा तो नहीं हैचमकती दूर की हर चीज अक्सरदिखे सोना वो सोना तो नहीं हैहमेशा मुसेकुराता देखा जिसकोवही छुप-छुप के रोता तो नहीं हैमुहब्बत से बने इक आशियाँ मेंकोई तन्हा भी खोया तो नहीं हैनज़र बोतते हैं बात दिल कीज़ुबां अबतक ये...
Akhilesh Karn
269
फिल्म : रामपुर के लक्ष्मणगायक: पामेला जैन व साथीगीतकार: प्यारेलाल यादवसंगीतकार: गुणवंत सेनम्यूजिक कंपनी: वेब म्यूजिक जिया जरावे प्रीत बेदरदीजर जर गीत सुनावेधूप छांव और सरदी गरमीरंग हजार देखावेजान ले ली हो जान ले लीजान ले ली जुदाई तोहार मितवाकबो करिह न केहू से प्य...