--अजनबी ख्वाब में आता क्यों हैहाले-दिल अपना सुनाता क्यों है--अपने लब पे अधूरी प्यास लिएतिशनगी अपनी बुझाता क्यों है--कौन से जन्म का ये नाता हैहमको अपना वो बताता क्यों है--खुली आँखों में रूबरू नहीं होताअपना अधिकार जताता क्यों है--बात करता है चाँद-तारों कीझूठ से अपने...