ब्लॉगसेतु

HARSHVARDHAN SRIVASTAV
214
..............................
kumarendra singh sengar
29
जंगल काटकर कंक्रीट के जंगल खड़े कर देने वाला इन्सान अब सुकून पाने के लिए जंगलों की तरफ ही दौड़ रहा है. नगरों की आपाधापी भरे जीवन में कुछ पल सुकून के पाने के लिए वह जंगलों की तरफ जा रहा है. इसके लिए वह जंगलों में अपने सुख-सुविधा के इंतजाम भी करने में लगा हुआ है. इसके...
VMWTeam Bharat
108
इस पूरे ब्रह्माण्ड में सिर्फ एक ही जगह ऐसी है जहाँ जीवन है और जहाँ चारो ओर हरियाली रहती है और इस हरियाली से यह धरती बहुत ही सुन्दर और आकर्षक लगती है. यह प्रकृति ही है जो हमें स्वस्थ जीवन जीने के लिए एक प्राकृतिक पर्यावरण देती है | यह प्रकृति हमें भगवान द्...
Satyan Srivastava
47
मानवीय मन अथवा भावना(Emotion)पृथ्वी पर जितने भी जीवित जीव है उनका मन उनके शरीर से कई गुना ज्यादा सँवेदनशील तथा शक्तिशाली होता है अब तो वैज्ञानिक भी यह मानने लगे है कि इंसान को होने वाले रोग पहले मानसिक स्तर(Mental Level)पर होते है और अगर उन्हें ठीक से उपचारित...
 पोस्ट लेवल : प्राकृतिक-चिकित्सा
Satyan Srivastava
47
अक्सर देखा गया है कि रोगी जब मर्ज से बेहाल हो जाता है और जब एलोपैथी के लंबे इलाज के बाद कही राहत नही मिलती है तब मजबूरन वो प्राकृतिक चिकित्सा(Natural Healing)अपनाता है जबकि एलोपैथी की लंबी चिकित्सा के बाद साइड इफेक्ट्स के रूप में दूसरे दर्द और मर्ज भी रोगी की परेशा...
 पोस्ट लेवल : प्राकृतिक-चिकित्सा
Satyan Srivastava
47
हिंदू धर्म मे अत्याधिक पवित्र तथा पूजनीय मानी जाने वाली तुलसी(Tulsi)जन्म से मृत्यु तक के मानव शरीर पर होने वाले संस्कारों ,पूजन अर्चन तथा रीति रिवाजों की महत्व पूर्ण अंग है तुलसी को कृष्ण प्रिया भी कहा जाता है आध्यात्मिक महत्व के साथ साथ तुलसी में कई चिकित्सीय गुण...
 पोस्ट लेवल : प्राकृतिक चिकित्सा
Satyan Srivastava
47
आज हर मनुष्य निरापद चिकित्सा चाहता है आज वो इस बात को समझने लगा है कि अगर शरीर को स्वस्थ और सम्रद्ध जीवन जीना है तो प्राकृतिक चिकित्सा(Natural Treatment)ही लाभदायक है प्राकृतिक चिकित्सा का सबसे बड़ा लाभ यही है कि यह निराप्रद और स्थायी तथा एक सम्पूर्ण चिकित्सा पद्धति...
kumarendra singh sengar
29
अंडमान-निकोबार की नीले समुद्री जल और नैसर्गिक प्राकृतिक सुन्दरता को दिल-दिमाग में अभी पूरी तरह बसा भी नहीं पाए थे कि वहाँ से वापसी का दिन दिखाई देने लगा. लौटने से पहले उस जगह को देखने का कार्यक्रम बना जिस जगह के बारे में पहले दिन से सुनते आ रहे थे. वो जगह थी बाराटा...
kumarendra singh sengar
29
पोर्ट ब्लेयर में दो दिन की घूमा-फिरी के बाद समुद्र किनारे सजे-सजाये खड़े तीन जहाजों के अद्भुत दृश्य को आत्मसात करते हुए देर रात तक बिटिया रानी के जन्मदिन की पार्टी और फिर सुबह-सुबह हैवलॉक द्वीप को चल देना. अंडमान-निकोबार में जल्दी सूर्योदय होने के कारण सुबह छह बजने...
केवल राम
312
गत अंक से आगे.....आम जनमानस बोली में ही अपने भावों को अभिव्यक्त करने की कोशिश करता है, उसके जीवन का हर पहलू बोली के माध्यम से बड़ी खूबसूरती के साथ अभिव्यक्त होता है. हम अगर भाषा का गहराई से अध्ययन करते हैं तो पाते हैं कि भाषा में प्रयुक्त कुछ शब्द भाव सम्प्रेषण में...