ब्लॉगसेतु

DHRUV SINGH  "एकलव्य"
0
वो दूध पिलाती माता !वो गले लगाती माता !कोमल चक्षु में अश्रु लेकर तुझे बुलाती माता !वो जग दिखलाती माता !तुझको बहलाती माता !तेरे सिर को हृदय लगाये ब्रह्माण्ड समेटे गाथा !रोती सड़क पे माता !जिसको छोड़ा तूने कहक...
DHRUV SINGH  "एकलव्य"
0
                                                                          ...