ब्लॉगसेतु

सुशील बाकलीवाल
409
         हिंदू धर्म में यह परम्परा है कि किसी भी मंदिर में दर्शन के बाद बाहर आकर मंदिर की पेढी या ओटले पर दो मिनिट तो बैठना ही चाहिये । क्या आप जानते हैं कि इस परम्परा के पीछे कारण क्या है ?          &nbsp...
Roli Dixit
162
मैं तिनके-तिनके से बनेघर में रहूँ,या गुम्बदन&#236...
Meena Sharma
274
हार से बोझिल पगों को ,जीत का आह्वान देना !सोच को मेरी, प्रभु !सत्प्रेरणा का दान देना ।।प्रेम देना, स्नेह देना,किंतु मत अहसान देना !सत्य की कटु औषधि को,मधुरता, अनुपान देना ।।भीत, आशंकित हृदय की,आस्था को मान देना !पीड़ितों को, शोषितों को,करूणा का वरदान देना ।।आत्मबल क...
 पोस्ट लेवल : प्रार्थना
हिमांशु पाण्डेय
490
तेरे चारों ओर वही कर रहा भ्रमण हैखुले द्वार हों तो प्रविष्ट होता तत्क्षण है उसकी बदली उमड़ घुमड़ रस बरसाती हैजन्म-जन्म की रीती झोली भर जाती है।होना हो सो हो, वह चाहे जैसे खेलेउसका मन, दे सुला गोद में चाहे ले ले करो समर्पण कुछ न कभीं भी उससे माँगोबस उसके संक...
sanjiv verma salil
6
PRAYERध्यान, अध्यात्म आदि से संबंधित संस्था infinitheism की प्रार्थना भावानुवाद सहित प्रस्तुत हैFeeling thy presenceFeeling thy graceFeeling thy radianceYou are my source of faith and strengthYou are my path and destinationAnd I am always connected to YouNothing of...
मुकेश कुमार
212
"या देवी सर्वभूतेषु...."गूंजती आवाज के साथजैसे ही शुरुआत की प्रार्थना कीपर नाद अनुनाद में बंध करबिना किसी मुकम्मल गूँज केधप्प से दब कर रह गयी प्रार्थना!बेशक रही होअंतर्मन से निकली आवाजपर, सिसकती रुंधी हुईकिसी दूर बैठी लड़की की आवाज केहल्के से रुदन में खो गयी प्रार्थ...
sanjiv verma salil
6
मुक्तक *प्राण, पूजा कर रहा निष्प्राण की इबादत कर कामना है त्राण की वंदना की, प्रार्थना की उम्र भर- अर्चना लेकिन न की संप्राण की. साधना की साध्य लेकिन दूर था भावना बिन रूप ज्यों बेनूर थाकामना की यह मिले तो वह करूँ जाप सुनता प्रभु न लेकिन सूर था. नाम ले सौदा किया बेन...
विजय कुमार सप्पत्ति
468
और अंत में जब प्रार्थना करते हुए आँखों में आंसू आये , प्रभु के लिए ... तब ही सच्ची पूजा और प्रार्थना .... बस उस क्षण तक पहुँचना ही जीवन का ध्येय है ... यही सच्चा समर्पण है . जीवन के प्रति , प्रभु के प्रति , स्वंय के प्रति. अस्तु प्रणाम आपका अपना विजय
सुशील बाकलीवाल
327
          एक बार भगवान से उनका सेवक कहता है, भगवान- आप एक जगह खड़े-खड़े थक गये होंगे, एक दिन के लिए मैं आपकी जगह मूर्ति बन कर खड़ा हो जाता हूं, आप मेरा रूप धारण कर घूम आएँ l       &nb...
अर्चना चावजी
20
॥ भगवतीपद्यपुष्पाञ्जलीस्तोत्रान्तर्गतं महिषासुरमर्दिनिस्तोत्रम् ॥अयि गिरिनन्दिनि नन्दितमेदिनि विश्वविनोदिनि नन्दनुतेगिरिवरविन्ध्यशिरोधिनिवासिनि विष्णुविलासिनि जिष्णुनुते ।भगवति हे शितिकण्ठकुटुम्बिनि भूरिकुटुम्बिनि भूरिकृतेजय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसु...
 पोस्ट लेवल : श्लोक प्रार्थना