ब्लॉगसेतु

rishabh shukla
666
Ek Anokhi Prem Kahani / एक अनोखी प्रेम कहानी / An Extraordinary Love StoryEk Anokhi Prem Kahani / एक अनोखी प्रेम कहानी / An Extraordinary Love Storyकहते है कि ऊपर वाले ने किसके लिए क्या लिखा है उसे न कोई जान सकता है और न ही बदल सकता है ..... क्योकि ऐसा ही कुछ घटित...
kumarendra singh sengar
24
किसी गलती की क्या सजा हो सकती है? ये गलती पर निर्भर करता है या सजा देने वाले की मानसिकता पर? अब सजा देने वाले के मन की कोई क्या जाने मगर जहाँ तक हमारी व्यक्तिगत राय है तो कोई भी सजा उसकी गलती के आधार पर ही निर्धारित होनी चाहिए. ऐसा इसलिए क्योंकि सजा देने वाले की मा...
MyLetter .In
139
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); - अवधेश कुमार उर्फ मुंशी जीजाने सनम,जब से मैंने आपके सौंदर्य को एक नज़र निहारा है तब से दिल बेकरार है। अब आप को बग़ैर जाने पहिचाने ही कैसे किसी पर मोहित होकर प्यार जताने का अधिकार है। सवाल ठीक है परन्तु दिल जब...
 पोस्ट लेवल : दिल की बात प्रेम पत्र
MyLetter .In
139
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); - शेफाली शर्मामुझे याद नहीं कि मुझे कभी यह कहने की जरुरत पड़ी हो कि मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूँ। इसलिए शायद जब भी तुमने कुछ पूछा, उसके जवाब में मैंने हमेशा एक पत्र लिखकर दिया है। मैं जानता था तुमने मेरी बातो...
 पोस्ट लेवल : दिल की बात प्रेम पत्र
sanjiv verma salil
6
गीत:प्रेम कविता...संजीव 'सलिल'**प्रेम कविता कब कलम सेकभी कोई लिख सका है?*प्रेम कविता को लिखा जाता नहीं है.प्रेम होता है किया जाता नहीं है..जन्मते ही सुत जननि से प्रेम करता-कहो क्या यह प्रेम का नाता नहीं है?.कृष्ण ने जो यशोदा के साथ पालाप्रेम की पोथी का उद्गाता वही...
 पोस्ट लेवल : गीत प्रेम कविता
Bharat Tiwari
19
Hindi Story 'Shatranj ke Khiladi' — Munshi Premchandमुंशी प्रेमचंद की हिन्दी कहानीशतरंज के खिलाड़ीवाज़िदअली शाह का समय था। लखनऊ विलासिता के रंग में डूबा हुआ था। छोटे-बड़े, गरीब-अमीर— सभी विलासिता में डूबे हुए थे। कोई नृत्य और गान की मज़लिस सजाता था, तो कोई अफीम की...
MyLetter .In
139
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); प्रिय,हमें प्यार से प्यार करना चाहिए और प्यार से ही उस प्यार को प्राप्त करना चाहिए। यदि हमें पसंद आ गया तो हमें प्यार मिलना ही चाहिए, ऐसी चाहत बेवकूफी नहीं तो और क्या है? अगर हमारे मन को दर्द होता है तो कोई ब...
MyLetter .In
139
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); - राजेश बन्छोरप्रिय पूजा,बहुत कुछ कहना है और कह पाना मुश्किल सा है. शायद यही कारण है कि अभिव्यक्ति के लिए कागज-कलम से बेहतर साधन नहीं खोज पाया. यह मेरा पहला और अंतिम पत्र है. इस पत्र को कागज का मामूली टुकड़ा म...
MyLetter .In
139
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); - राजेश बन्छोरप्रिय राज,मुझे खुद को नहीं मालूम कि मैं कैसी लड़की हूं. मैं आपके दोस्ती के काबिल नहीं, फिर भी आप मुझे अपना दोस्त समझते हैं, यह सोचकर ही मुझे बहुत गर्व महसूस होता है. मुझे मालूम है कि आप कभी...
 पोस्ट लेवल : दिल की बात प्रेम पत्र
MyLetter .In
139
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); -आयशा मुखर्जीडियर राहुल,जब से तुम मेरी ज़िन्दगी में आये हो मेरी life काफी interesting हो गयी है. तुमने अब तक हर बुरी या अच्छी परिस्थितियों में मेरा साथ दिया और सबसे पहले मैं इसके लिए तुम्हारा Thanks करती हूँ....
 पोस्ट लेवल : दिल की बात प्रेम पत्र