ब्लॉगसेतु

विजय कुमार सप्पत्ति
651
पारिजात के फूलभाग 1 – 1982 वह सर्दियों के दिन थे. मैं अपनी फैक्टरी से नाईट शिफ्ट करके बाहर निकला और पार्किंग से अपनी साइकिल उठाकर घर की ओर चल पड़ा. सुबह के 8:00 बज रहे थे. मैं अपने घर के सामने से गुजरा. मां दरवाजे पर खड़ी थी, मैंने मां को बोला ‘मां नहाने का पानी गर...
मुकेश कुमार
425
एक बड़े सरकारी अस्पताल का किडनी ट्रांसप्लांट यूनिट, दो अलग शहर से भिन्न सम्प्रदाय का लड़का-लड़की, जवानी के खुशियों भरे दिन व सपने देखने के बजाय दर्द से बेहाल, थे भर्ती किडनी के ट्रांसप्लांट के लिए!अलग-अलग बेड पर लेटे कराहते हुए एक दूसरे को छिपी नजरों से निहार कर दर्द...
विजय कुमार सप्पत्ति
651
ॐ गणपतये नम:भगवान शिव की कथा लिखना ! मुझ जैसे मामूली से इंसान के बस की बात नहीं है। ये मेरी सिर्फ एक छोटी सी कोशिश मात्र है। ये मेरी शिव भक्ति का एक रूप ही है। भगवान शिव के चरणों में मेरे शब्दों के पुष्प समर्पण ! मैं तो सिर्फ प्रस्तुत कर रहा हूँ। सब कुछ त...
मुकेश कुमार
425
संसद मार्ग एटीएम के सामने पंक्तिबद्ध लड़का जो करीब 300 लोगो के बाद खड़ा था, और उसके बाद फिर करीबन 200 लोग खड़े थे ! बेसब्री से बैंक के दरवाजे खुलने का सबों को इन्तजार था ! कोई गुरुद्वारा प्रबंधक कमिटी वाले चाय बाँट रहे थे, सभी लाइन में खड़े पकते लोगो के लिए !! :oतभी उन...
मुकेश कुमार
425
लघु प्रेम कथा----------कॉलेज के उसी खास दरख़्त के नीचे लीजर पीरियड में समय काटते हुए लड़के ने अपने दिमाग में प्रेम व विज्ञान के घालमेल के साथ बोला - ओये ! अच्छा ये बताओ दो हाइड्रोजन एटम एक ऑक्सीजन के एटम के साथ क्रिया-प्रतिक्रिया कर H2O यानि जल में परिवर्तित हो जात...
मुकेश कुमार
425
लघु प्रेम कथा-----------लड़का : कभी-कभी इन मुरझाये पौधों और कम चमकते फूलों को देखकर तुम्हे ये बेशक ख़याल नहीं आता होगा कि इनके लिए भी कभी न कभी तुम्हे मसाले वाले पनीर या बटर चिकन या लस्सी बनाना चाहिए तुम्हे :)लेकिन, ......तुम्हारे छिपे नजरों से कई बार चिकन के टुकड़े य...
मुकेश कुमार
425
माचिस की तीली सररर्र !!एक हलकी सी सांस ली अन्दर और बस सुलग गयी, होंठों से लगी, क्लासिक माइल्ड किंग साइज़ !!जीरो वाट के जलते बल्ब को देखते हुए लड़के ने सांस छोड़ी तो धुएं को बल्ब की और रास्ता बनाते देखा!!आड़ी तिरछी आकृतियाँ उभरी, कुछ काले मेघ जैसी , तो कुछ अनाम प्रिय या...
मुकेश कुमार
425
दिनेश पारिख के हाथों मे हमिंग बर्डकक्षा - 9, सेक्शन - बी, छठी घंटी !बायोलोजी के क्लास में रेड स्केच से मैथ्स वाली सोच के साथ उलटी खोपड़ी के तरह डेस्क पर उसने दूर सामने बैठी लम्बे बालों वाली गौरवर्ण नकचढ़ी को देखकर अपने और सिरा रखते हुए पुरे प्यार से नम्बर तीन लि...
 पोस्ट लेवल : laprek लघुप्रेमकथा
मुकेश कुमार
425
#लघुप्रेमकथा - 8--------पहला दिन - पहला शो"नदिया के पार" देखने गया था लड़का, कॉलेज बंक कर के, अकेले !उफ़! भीड़ पर्दा फाड़ रही थी, सिनेमा हाल अटा पड़ा था !टिकट मिलने का चांस जीरो बटा सन्नाटा!!लौट ही रहा था कि लेडिज की कतार पर नजर पड़ी !!चल एक आखिरी कोशिश!!भीड़ भरे कतार में...
मुकेश कुमार
425
सुनो !मुझे तुमसे प्यार है, लव यू, लव यू, लव यू !!धत्त यार!! प्यार व्यार कुछ नहीं ! ओनली फ्रेंडशिप समझे न बुद्धू !!क्यों? अरे, हद है न!!  मेरा दिल तुम्हे चाहने लगा है, मेरी क्या गलती !!न न ! ! माँ ने कॉलेज पढने भेजा है, प्यार करने नहीं !! चुप रहो तुम !!चलो छोडो...
 पोस्ट लेवल : लघुप्रेमकथा laprek