ब्लॉगसेतु

jaikrishnarai tushar
0
 चित्र -साभार गूगल एक ग़ज़ल -लिखने वाला अपने मन की प्रेम कहानी लिखता हैकोई राँझा-हीर तो कोई राधा रानी लिखता हैलिखने वाला अपने मन की प्रेम कहानी लिखता हैमीरा को भी सबने देखा अपनी-अपनी नज़रों सेकोई कहता जोगन कोई प्रेम दीवानी लिखता हैसब अपनी तकरीर में केवल बात...
rishabh shukla
0
एक अनोखी प्रेम कहानी - Jab Miya Bibi Raji, To Kya Karega Kazi / जब मियां बीबी राजी, तो क्या करेगा काजी / When Mian Bibi agrees, what will Kazi doएक अनोखी प्रेम कहानी - Jab Miya Bibi Raji, To Kya Karega Kazi / जब मियां बीबी राजी, तो क्या करेगा काजी / When Mian Bibi...
rishabh shukla
0
Ek Anokhi Prem Kahani / एक अनोखी प्रेम कहानी / An Extraordinary Love StoryEk Anokhi Prem Kahani / एक अनोखी प्रेम कहानी / An Extraordinary Love Storyकहते है कि ऊपर वाले ने किसके लिए क्या लिखा है उसे न कोई जान सकता है और न ही बदल सकता है ..... क्योकि ऐसा ही कुछ घटित...
kumarendra singh sengar
0
कितने बजे पहुँचोगी स्टेशन? रुद्रांश ने सीधा सा सवाल पूछा. क्यों, मिलने की बहुत जल्दी है? ट्रेन के समय पर ही पहुंचेंगे. उधर से अनामिका ने खिलखिलाते हुए उसकी बात का जवाब दिया. दोनों तरफ से फिर हलकी-फुलकी नोंक-झोंक होते हुए बात समाप्त हुई. ट्रेन अपनी स्पीड से दौड़ी जा...
 पोस्ट लेवल : प्रेम कहानी कहानी
Bharat Tiwari
0
योगिता यादव की लम्बी कहानी 'नदियों बिछड़े नीर' उनकी महारत — दिल्ली की बस्तियों में होने वाली घटनाओं, वहाँ के जीवन की बारीकियों पर मजबूत पकड़ — से उपजी प्रेम कहानी। ... भरत तिवारी/शब्दांकन संपादक"घर में लड़की और पड़ोस में लड़का जब जवान हो रहा हो तो   &...
kumarendra singh sengar
0
खाना खाने के बाद वे दोनों टैरेस पर आकर खड़े हो गए. अपने-अपने एहसासों को अपने अन्दर महसूस करते हुए दोनों ही ख़ामोशी से बाहर चमकती लाइट्स को, काले आसमान को, उनमें टिमटिमाते तारों को देखे जा रहे थे. उनकी ख़ामोशी के साथ चलती प्यार भरी लहर में घड़ी ने अवरोध पैदा किया. उसने...
kumarendra singh sengar
0
मोबाइल को मेज पर टिका कर वह कुर्सी पर पसर गया. ‘कभी अपने घर को देखते हैं’ की तर्ज़ पर उसने एक नजर ड्राइंग रूम कम स्टडी रूम पर दौड़ाई. अस्तव्यस्त तो नहीं कहा जायेगा मगर करीने से लगा भी नहीं कहा जा सकता. पढ़ने के अलावा भी तमाम शौक के उसी कमरे में अपना आकार लेने के कारण...
kumarendra singh sengar
0
गले में कैमरा लटकाए वह बाजार में टहल रहा था. फोटोग्राफी के शौक में अक्सर वह यूँ ही टहलता रहता. कभी शहर में, कभी गाँव में, कभी बाजार में, कभी खेतों में, कभी दिन में, कभी रात में. टारगेट को फोकस करते ही एक पल को उसकी आँखें चमक उठीं. जो वहाँ उसकी कल्पना में नहीं था उस...
Bharat Tiwari
0
लप्रेक – है क्या यह? पढ़िए मुकेश कुमार सिन्हा की तीन लघु प्रेम कहानियाँउम्मीद शायद सतरंगी या लाल फ्रॉक के साथ, वैसे रंग के ही फीते से गुंथी लड़की की मुस्कुराहटों को देख कर मर मिटना या इंद्रधनुषी खुशियों की थी, जो स्मृतियों में एकदम से कुलबुलाई।मॉनसूनमेघों को भी...
E & E Group
0
अलौकिक प्रेम कहानीराधा-कृष्ण की अलौकिक प्रेम कहानी से हर कोई परिचित है। उन दोनों का मिलना और फिर मिलकर बिछड़ जाना, शायद यही उन दोनों की नियति थी। पौराणिक कथाओं में कृष्ण को रासलीला करते दर्शाया गया है, उन्हें एक प्रेमी और कुशल कूटनीतिज्ञ के रूप में प्रदर्शित किया गय...