ब्लॉगसेतु

Yashoda Agrawal
5
अब तुम कही भी नही होकही भी नहीना मेरी यादों मेंन मेरी बातों मेंअब मैं मसरूफ रहती हूँदाल के कंकड़ चुन'ने मेंशर्ट के दाग धोने मेंक्यारी में टमाटर बोने मेंएक पल भी मेराकभी खाली नही होताजो तुझे याद करूँया तुझे महसूस करूमैंने छोड़ दिएनावेल पढनेमैंने छोड़ दिए हैकिस्से गढ़नेअ...
समीर लाल
77
कायल एक ऐसी विकट और विराट चीज है जो कोई भी हो सकता है, कभी भी हो सकता है, किसी भी बात से हो सकता है और किसी पर भी हो सकता है.मैने देखा है कि कोई किसी की आवाज का कायल हो जाता है, कोई किसी की सुन्दरता का, कोई किसी के लेखन का, कोई किसी के स्वभाव का, कोई किसी के नेतृत्...
समीर लाल
77
पूरा भारत घर में बंद है सिर्फ उनको छोड़कर जिनको बाहर होना चाहिये जैसे डॉक्टर, पुलिस आदि. साथ ही कुछ ऐसे भी बाहर हैं जो पुलिस से प्रसाद लिए बिना अंदर नहीं जाना चाहते. मगर घर में बंद लोग पूरी ताकत से व्हाटसएप पर चालू हैं. अगर व्हाटसएप का मैसेज मैसेज न हो कर एक पैसे वा...
अजय  कुमार झा
97
पिछले एक सप्ताह के एकांतवास में ,छत पर अपनी बगिया में सत्तर अस्सी पौधे लगा चुका हूँ | फूल पत्तों के अलावा फिलहाल तोरी ,भिंडी ,घीया ,पालक ,धनिया ,नीम्बू मिर्च सब उगाई लगाई जा रही है | दिन का  अधिक समय छत पर बनी इस बगिया नुमा आँगन में ही बीत रहा है | सुबह शाम झा...
समीर लाल
77
भारत यात्रा के दौरान सूचना दी मित्र को कि उनके शहर दर्शन पर हैं सपरिवार. शहर देखेंगे, कुछ सिद्ध मंदिरों मे दर्शन कर प्रभु का आशीष प्राप्त कर आप तक कल पहुँचेंगे.मित्र ने हिदायत दी कि मंदिर में भीड़ बहुत होती है, अतः दर्शन टाल दिया जाये. करोना वायरस फैला है, खतरा न पा...
Yashoda Agrawal
5
आज की रचना एकबंद ब्लॉग सेइक्कीस बरस की थी सुखमनी जब आई थी ब्याह केतब पता न था उसेकी जीतू के स्वभाव काशादी के कुछ दिन बाद ही सेडराता धमकाता रहा वोऔर वो डरती रहीनिभाती रही मान इसे अपनी किस्मतशादी के दो साल बादजब वो हुई पेट सेलड़ायी बदस्तूर जारी रहीचलती रही मारपीट...
 पोस्ट लेवल : बंद ब्लॉग से
समीर लाल
77
भाई जी, आपका ठिया तो सबसे बड़े बाजार में है. पता चला है, होल सेल में डील करते हो. कुछ हमें भी बताओ भाई, सुना है दिवाली सेल लगी है आपके बाजार में.हमने कहा कि दिवाली कहो या दिवाला. सेल तो लगी है ६०% से ७०% की भारी छूट चल रही है. एस एम एस से विज्ञापन भी किया जा रहा है....
समीर लाल
77
बिजली विभाग औरउसकी रहवासी कॉलिनियोंसे मेरा बड़ाकरीब का साबकारहा है. पिताजी बिजली विभागमें थे और हम बचपनसे ही उन्हींकॉलिनियों में रहतेआये.मैने बहुत करीबसे बिजली सेखम्भों को लगते देखा है, एक से एक ऊँचे ऊँचे. उच्च दाब विद्युतवाले लंबे लंबेखम्भे और टॉवर भी, सबलगते देखें...
समीर लाल
77
मौका है भारत से सात समंदर पार कनाडा में हिन्दी के प्रचार एवं प्रसार के लिये आयोजित समारोह का. अब समारोह है तो मंच भी है. माईक भी लगा है.टीवी के लिये विडियो भी खींचा जा रहा है. मंच पर संचालक, अध्यक्ष, मुख्य अतिथि विराजमान है और साथ ही अन्य समारोहों की तरह दो अन्य प्...
समीर लाल
77
भारत की आबादी को अगर आप त्रिवेणी पुकारना चाहते हैं, तो इत्मिनान से पुकार लिजिये. आपके पास तो अपने त्रिवेणी कहने का आधार भी होगा वरना तो लोग कुछ भी जैसे अंध भक्त, भक्त, देश द्रोही, गद्दार, पप्पू, गप्पू आदि जाने क्या क्या पुकारे चले जा रहे हैं, कोई कहाँ कुछ पूछ पा रह...