सुननेवालों को वही कहानी बांधे रहती है जिसमें कदम कदम पर चौंकानेवाले मोड़ आते है। हर समय यह धुकधकी बनी रहती है कि पता नहीं अब आगे क्या होता है। श्रोता जो सोच भी नहीं पाता वैसी घटना अचानक घट जाती है। जब उसे लगता है कि हां अब आगे सब ठीकठाक चलेगा तभी कोई...