ब्लॉगसेतु

Lokendra Singh
104
चिलचिलाती गर्मी में कहीं घूमने निकलना कतई आनंददायक नहीं होता है। परंतु, अपन तो ठहरे यात्रा प्रेमी। संयोग से जून के पहले सप्ताह में छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर पहुँच गए। जब पहुँच गए तो फिर अपन राम का मन कहाँ होटल के आरामदेह बिस्तर पर लगता। जिस कार्य से रायपुर पहुँचे...
sahitya shilpi
11
..............................
sahitya shilpi
11
..............................
sahitya shilpi
11
..............................
sahitya shilpi
11
..............................
sahitya shilpi
11
..............................
sahitya shilpi
11
..............................
Ravindra Pandey
482
चौड़ी छाती है वीरों की,गगनभेदी हुँकार है...नाम धनंजय, रुद्र, विनोद,करतम, माझी, करतार है...अब तो कोई जतन करे,कोई तो समाधान हो...ऐसा ना हो सुंदर बस्तर,खुशियों का शमशान हो...दारुण दुःख सहते सहते,देखो पीढ़ी गुज़र रही...बारूदों के ढेर में बैठी,साल की बगिया उजड़ रही...तन आहत...
sahitya shilpi
11
..............................
sahitya shilpi
11
..............................