ब्लॉगसेतु

4
--जन्मदिवस चाचा नेहरू का, बच्चों भूल न जाना।ठाठ-बाट को छोड़ हमेशा, सादा जीवन अपनाना।।--नित्य-नियम से सदा सींचना, बगिया की फुलवारी।मत-मजहब के गुलदस्ते सी, वसुन्धरा है प्यारी।अपनी इस पावन धरती पर, वैमनस्य मत उपजाना। ठाठ-बाट को...
4
 "गिलहरी"बैठ मजे से मेरी छत पर,दाना-दुनका खाती हो!उछल-कूद करती रहती हो,सबके मन को भाती हो!!तुमको पास बुलाने को,मैं मूँगफली दिखलाता हूँ,कट्टो-कट्टो कहकर तुमको,जब आवाज लगाता हूँ,कुट-कुट करती हुई तभी तुम,जल्दी से आ जाती हो!उछल-कूद करती रहती हो,सबके मन को भात...
रविशंकर श्रीवास्तव
5
..............................
 पोस्ट लेवल : बालगीत
रविशंकर श्रीवास्तव
5
..............................
रविशंकर श्रीवास्तव
5
..............................
 पोस्ट लेवल : बाल कथा बालगीत बालकथा
sanjiv verma salil
6
बाल गीत:बरसे पानीसंजीव 'सलिल'*रिमझिम रिमझिम बरसे पानी.आओ, हम कर लें मनमानी.बड़े नासमझ कहते हमसेमत भीगो यह है नादानी.वे क्या जानें बहुतई अच्छालगे खेलना हमको पानी.छाते में छिप नाव बहा ले.जब तक देख बुलाये नानी.कितनी सुन्दर धरा लग रही,जैसे ओढ़े चूनर धानी.काश कहीं झूला...
 पोस्ट लेवल : varsha वर्षा bal geet बालगीत
रविशंकर श्रीवास्तव
5
..............................
 पोस्ट लेवल : बाल कथा बालगीत बालकथा
रविशंकर श्रीवास्तव
5
..............................
रविशंकर श्रीवास्तव
5
..............................
 पोस्ट लेवल : बाल कथा बालगीत बालकथा
रविशंकर श्रीवास्तव
5
..............................