ब्लॉगसेतु

Dr. Mohd. Arshad Khan
662
          (गोंडवाना की महारानी दुर्गावती के उद्यान का दृश्य। महारानी एक सुंदर सरोवर के निकट अन्यमनस्क-सी बैठी हुई हैं। पीछे एक दासी खड़ी है। नेपथ्य से गीत-संगीत और उल्लास की ध्वनियाँ आ रही हैं।) दासी    :    अप...
Dr. Mohd. Arshad Khan
662
(अहमद नगर का राज्य। दरबार लगा हुआ है। चाँदबीबी अपने दरबारियों के साथ बैठी हुई हैं। उनके चेहरे पर शोक की छाया विद्यमान है। दरबारियों के सिर झुके हुए हैं। कुछ क्षणों के बाद वज़ीर उठकर बोलता है।) वज़ीर   : बेगम साहिबा, हुज़ूरे-आला की जन्नत-परवाज़ के बाद सारी रि...
Dr. Mohd. Arshad Khan
662
(जैसलमेर के राजा महारावल रत्नसिंह का दरबार। राजकुमारी रत्नावती मंत्री के साथ बैठी विचार-विमर्श कर रही हैं।)रत्नावती      ःमंत्री जी, राज्य में सब कुशल तो है?मंत्री        ःजी, राजकुमारी, आप की कृपा से सब कुशल है। सब...