ब्लॉगसेतु

सुशील बाकलीवाल
430
       प्राय: पारिवारिक पिकनिक पार्टियों में, मंदिर, बगीचे या ऐसे ही सार्वजनिक स्थानों पर समूह में बैठकर या फिर अपने दैनिक जीवन में कचोरी-समौसे, पोहे, जलेबी, इमरती जैसी खाद्य सामग्री बाजार में उपलब्ध न्यूज पेपर के टुकडों पर रखकर बेची हुई हम आसान...
सुशील बाकलीवाल
430
          हमारे खाद्यान्न में तले हुए व्यंजन, मिठाईयां, निरन्तर चलन में बढते फास्ट-फूड, शराब-सिगरेट, तम्बाकू के सेवन के साथ ही वायुमंडल में व्याप्त घातक जहरीले रसायनों के कारण हमारे शरीर की रक्त नलिकाओं में ठोस चिकनाई व...