ब्लॉगसेतु

PRAVEEN GUPTA
86
चाय वाले की बेटी बनी फ्लाइंग ऑफिसरचाय बेचकर पिता ने कराया बेटी का सपना पूरा, अब उड़ाएंगी भारतीय वायुसेना का फाइटर प्लेनमध्य प्रदेश के नीमच की 24 वर्षीय आंचल गंगवाल ने भारतीय वायुसेना की उड़ान शाखा में चयन पाकर घरवालों का नाम रौशन कर दिया है। आंचल के पिता नीमच बस अड...
150
विधा-मुक्त छंद माँ -बेटी के साथ में,करती हँस के बात।बेटी को वो दे रही,जीवन की सौगात।।जीवन की सौगात, ज़िन्दगी होती भारी।पर बिटिया  तो लगती हर माता को प्यारी।कह राधे गोपाल,गोद में माँ के लेटीहँस कर करती बात , सदा ही माँ अरू बेटी : माँ -बेटी के साथ...
Roli Dixit
62
मैंने बो दी है अपनी इच्छा'इस समाज में न जीने की'किसी गहरी मिट्टी के नीचेक्योंकि ये समाज सुधरने से रहाऔर मैं ख़ुद को मार नहीं सकती.कैसे जियूँ यहाँ तिल-तिल मरकरहंसने-बोलने पर पाबंदी लगीपढ़ने जाने पर लगीबाहर निकलने पर लगी.जब भी समझाती हूंबाबा अब सब सही हो गयाफ़िर कोई नई...
अनीता सैनी
7
क्यों नहीं कहती झूठ है यह सब,  तम को मिटाये वह रोशनी हो तुम,   पलक के पानी से जलाये  दीप,  ललाट पर फैली स्वर्णिम आभा हो तुम,  संघर्ष से कब घबरायी ? मेहनत को लाद कंधे पर,  जीवन के हर पड़ाव पर...
4
--कुलदीपक की सहचरी, घर का है आधार।बहुओं को भी दीजिए, बेटी जैसा प्यार।।-- बाबुल का घर छोड़कर, जब आती ससुराल।निष्ठा से परिवार तब, बहुएँ सहीं सम्भाल।।नहीं सुता से कम यहाँ, बहुओं का प्रतिदान।भेद-भाव को त्यागकर, उनको देना मान।।बहुओं से घर का चमन,...
4
बेटी से आबाद हैं, सबके घर-परिवार।बेटो जैसे दीजिए, बेटी को अधिकार।।--चाहे कोई वार हो, कोई हो तारीख।दिवस सभी देते हमें, कदम-कदम पर सीख।।जगदम्बा के रूप में, जो लेती अवतार।उस बेटी से कीजिए, बेटो जैसा प्यार।।बेटी रत्न अमोल है, क...
sanjiv verma salil
6
बेटी पचीसा(बेटी पर २५ दोहे)*सपना है; अरमान है, बेटी घर का गर्व।बिखरा निर्झर सी हँसी, दुख हर लेती सर्व।।*बेटी है प्रभु की कृपा, प्रकृति का उपहार।दिल की धड़कन सरीखी, करे वंश-उद्धार।।*लिए रुदन में छंद वह, मधुर हँसी में गीत।मृदुल-मृदुल मुस्कान में, लुटा रही संगीत।।*नन्...
 पोस्ट लेवल : beti pachisa बेटी पचीसा
ज्योति  देहलीवाल
103
''दीदी, कहाँ खो गई हो? ध्यान कहां हैं आपका? आप गैस के सामने खड़ी हो और दूध उफनकर नीचे गिर रहा हैं, लेकिन आपका ख्याल हीं नहीं हैं।'' ''हां...अं...'' जब छोटी बहन अनिता ने मुझे कहा तो मेरी तंद्रा तुटी। मैं ने जल्दी से गैस बंद की और गैस साफ़ करते-करते ही कहा, ''कुछ...
 पोस्ट लेवल : बेटी कहानी बोझ साहित्य
VMWTeam Bharat
110
भारतवर्ष मेधा की खान है । आदि गुरु शंकराचार्&#235...
Yashoda Agrawal
3
एक पिता ने अपनी बेटी की अच्छे परिवार में सगाई करवाई, लड़का बड़े अच्छे घर से था सुशील था तो पिता बहुत खुश हुए..लड़के ओर लड़के के माता पिता का स्वभाव बड़ा अच्छा था तो पिता के सिर से बड़ा बोझ उतर गया.....एक दिन शादी से पहले लड़के वालों ने लड़की के पिता को खाने पे...
 पोस्ट लेवल : बेटी