ब्लॉगसेतु

Lokendra Singh
101
 भारतीय  फिल्म उद्योग में जब भी किसी ऐतिहासिक घटना या व्यक्तित्व पर फिल्म बनाने का विचार प्रारंभ होता है, तब उसके साथ विवाद भी उत्पन्न हो जाते हैं। दरअसल, हमारे निर्देशकों में एक बड़ी बीमारी है कि वह इतिहास को उसके वास्तविक रूप में प्रस्तुत न करके अपने ढं...
Lokendra Singh
101
 आतंकवादी  हमलों से आहत भारत के नागरिक चाहते हैं कि पाकिस्तान का समूचा बहिष्कार किया जाए। इस सिलसिले में बॉलीवुड से पाकिस्तानी कलाकारों को बाहर करने और उन्हें काम नहीं देने की माँग जोर पकड़ रही है। यह माँग स्वाभाविक है। इसमें कुछ भी गलत नहीं है। लेकिन, बॉ...
शिवम् मिश्रा
35
 " कोई इश्क़ का नाम ले ... और अनारकली का जिक्र न हो ... यह मुमकिन नहीं " और आज वैसे भी इश्क़ का दिन है ...१४ फरवरी मधुबाला जी की जंयती   मधुबाला (जन्म: 14 फरवरी, 1933, दिल्ली - निधन: 23 फरवरी, 1969, बंबई) भारतीय हिन्दी फ़िल्मों की एक अभिनेत्री थ...
prabhat ranjan
34
जब से फिल्म समीक्षक पी.आर. एजेंसी के एजेंट्स की तरह फिल्मों की समीक्षा कम उनका प्रचार अधिक करने लगे हैं तब से सिनेमा के शैदाइयों के फिल्म विषयक लेखन की विश्वसनीयता बढ़ी है. मुझे दिलीप कुमार पर लार्ड मेघनाथ देसाई की किताब अधिक विश्वसनीय लगती है या राजेश खन्ना की मौत...
अविनाश वाचस्पति
134
विकास महाराज भी पीएम जी से खौफ खाए हुए चक्‍कर काट रहे हैं। विकास को विशेष अवकाश समझने  और मानने की गलती मत कर लीजिएगा। अच्छे दिन लानें के लिए अधिक श्रम की जरूरत होती है और छुटि़टयों से शर्म करनी पड़ती है। शनिदेव को तेल लगाने और चढ़ाने का यह भी एक नायाब तरीका ह...
अविनाश वाचस्पति
15
शिवम् मिश्रा
35
 मधुबाला (जन्म: 14 फरवरी, 1933, दिल्ली - निधन: 23 फरवरी, 1969, बंबई) भारतीय हिन्दी फ़िल्मों की एक अभिनेत्री थी। उनके अभिनय में एक आदर्श भारतीय नारी को देखा जा सकता है।चेहरे द्वारा भावाभियक्ति तथा नज़ाक़त उनकी प्रमुख विशेषता है। उनके अभिनय प्रतिभा,व्यक्तित्...
अविनाश वाचस्पति
15
 
अविनाश वाचस्पति
15
  ‘नया’ के दौड़ कर फिर दिसम्बर माह तक पहुंचने और उसे त्यागने और जनवरी में प्रवेश से पूर्व फिर से ‘नया’ हो जाना इस धरा पर सिर्फ ‘बारह महीनों’ के बस में है। इस आगमन के प्रथम दिवस पर ही ‘नया’ (उलटकर पढ़ने पर) तीव्र गति ‘यान’ बनकर अपने पूरे रूतबे के साथ मंगल...
अविनाश वाचस्पति
15