ब्लॉगसेतु

Ashish Shrivastava
0
एडवीन हबल( Edwin Hubble) एडविन हबल ब्रह्मांड के विस्तार सिद्धांत के प्रवर्तक और आधुनिक खगोल विज्ञान के पितामह थे । हबल बीसवीं सदी के अग्रणी खगोलविदों में से एक थे । उन पर ही हबल अंतरिक्ष टेलीस्कोप का नामकरण हुआ था । 1920 के दशक में हमारी अपनी मंदाकिनी(milky way) आक...
Ashish Shrivastava
0
मान लीजिये आपको एक कार बनानी है तो आपको क्या क्या सामग्री चाहिये होगी ? एक इंजन , कार का फ्रेम , पहिये , कुछ इलेक्ट्रॉनिक्स , सीट्स, ट्रांसमिशन सिस्टम , स्क्रूज , ईंधन और भी बहुत सारा सामान। और अब अगर मैं कहु की आपको एक इंजन बनाना है तब आपको चहियेगा बहुत सी धातुएँ...
Ashish Shrivastava
0
अनेक ब्रह्माण्ड(Multiverse) आज हम उस स्थिति में हैं कि अपने ब्रह्मांड की विशालता का मोटे तौर पर आकलन कर सकते हैं। हमारी विराट पृथ्वी सौरमंडल का एक साधारण आकार का ग्रह है, जो सूर्य नामक तारे के इर्दगिर्द परिक्रमा कर रही है। सौरमंडल का स्वामी होने के बावजूद सूर्य भ...
DHRUV SINGH  "एकलव्य"
0
वो दूध पिलाती माता !वो गले लगाती माता !कोमल चक्षु में अश्रु लेकर तुझे बुलाती माता !वो जग दिखलाती माता !तुझको बहलाती माता !तेरे सिर को हृदय लगाये ब्रह्माण्ड समेटे गाथा !रोती सड़क पे माता !जिसको छोड़ा तूने कहक...
DHRUV SINGH  "एकलव्य"
0
हिमालय के मैं गोद मेंथा सुषुप्त सा,रौद्र मेंहिम पिघलती जा रहीपीड़ा बन,आवेग मेंकोई पूछे ! क्यूँ पड़ा है ?मृत हुआ सा,सोच मेंदेख ! किरणें फूटतीं हैंघाटियों के मध्य मेंउठ ! खड़ा,तनकर यहाँउपदेश सा तूँ, रूप मेंकर प्रस्फुटित ! विचार तूँनिर्जरा संसार में,देख ! वो जो आ रहावायु...
Ashish Shrivastava
0
ब्रायन ग्रीन “एक समय की बात है(Once Upon a time)”……..। बहुत सारी अच्छी कहानियों की शुरुआत इस जादुई वाक्यांश से शुरू होती है लेकिन समय की कहानी क्या है ? हमलोग हमेशा कहते है समय व्यतीत होता है, समय धन है, हम समय नष्ट करते है, हम समय बचाने की कोशिश कर रहे...
Ashish Shrivastava
0
परिचय वर्तमान मे ब्रह्माण्ड के जन्म संबधित सबसे मान्य सिद्धांत बिग बैंग सिद्धांत है। इसके अनुसार ब्रह्मांड का जन्म एक बिंदु से हुआ था। विज्ञान द्वारा प्राप्त सभी प्रमाण इसी सिद्धांत के समर्थन मे है। इसके अतिरिक्त अन्य सभी अवधारणाये ऐसी परिस्थितियों या प्रक्रियायों...
 पोस्ट लेवल : ब्रह्माण्ड
Ashish Shrivastava
0
ब्रह्मांड की उत्पत्ति सदियो से ही मनुष्य के लिए रहस्य से भरा विषय रहा है हालांकि ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति को समझने के लिए कई वैज्ञानिक शोध किये गए कई सिद्धान्तों का जन्म भी हुआ फिर बिग बैंग सिद्धान्त को सर्वमान्य माना गया। हम अपने आसपास ही यदि लोगो से पूछे की ब्रह्मा...
Ashish Shrivastava
0
श्याम ऊर्जा(डार्क एनर्जी) के पश्चात ब्रह्मांड का दूसरा सबसे बड़ा घटक श्याम पदार्थ(डार्क मैटर) है। इसे प्रत्यक्ष रूप से देखा नही जा सकता है लेकिन इसके प्रभावो को इसके द्वारा उत्पन्न गुरुत्वाकर्षण द्वारा ब्रह्मांड के अन्य भागो से प्रतिक्रिया के रूप मे देखा जा सकता है...
Ashish Shrivastava
0
ब्रह्मांड के मूलभूत और महत्वपूर्ण गुणधर्मो मे से एक प्रकाश गति है। इसे कई रूप से प्रयोग मे लाया जाता है जिसमे दूरी का मापन, ग्रहों के मध्य संचार तथा विभिन्न गणिति गणनाओं का समावेश है। और यह तो बस एक नन्हा सा भाग ही है। निर्वात मे प्रकाश की गति 299,792 किमी/सेकंड है...