नए साल में ऐसा होआतंकवादी छोड़ें अपना धंधाबम फटे पर मरे नहीं एक बंदारिश्वत की फसल सूख जाएउगने की जमीन न मिल पाए