ब्लॉगसेतु

शिवम् मिश्रा
18
ब्लॉग बुलेटिन के सभी मित्रों को हार्दिक नमस्कार।आज के समय में इंटरनेट के बिना जिंदगी की कल्पना भी नहीं की जा सकती है। लेकिन इतना विस्तार पाने के बावजूद कुछ ऐसे क्षेत्र हैं जहाँ इंटरनेट नहीं पहुँचा है। इसी समस्या को दूर करने के लिए दुनिया के सबसे बड़े सर्च इंजन...
शिवम् मिश्रा
18
उत्तराखंड धीरे-धीरे बाढ़ के अब तक के सबसे बड़े कहर की चपेट में आ गया है। केदारनाथ से लौट रहे चश्मदीदों के मुताबिक वहां जबरदस्त तबाही हुई है। इस बार बादल फटने से हुई जबरदस्त बारिश का कहर केदारनाथ पर टूटा है। हाल ये है कि केदारनाथ के पास रामबाड़ा बाजार पूरी तरह बह गय...
शिवम् मिश्रा
18
मीडिया चिल्ला चिल्ला कर भाजपा और मोदी और नितीश पर रिपोर्टिंग कर रहा है। ऐसा लग रहा है जैसे कोई और खबर है ही नही। अबे भ्रष्ट सरकार के घोटाले नज़र नहीं आते क्या, सुरसा के मुंह जैसी मंहगाई डायन नज़र नहीं आती क्या? सब्ज़ी से लेकर दाल, चावल, आटा, दूध हो या फ़िर पेट्रोल,...
शिवम् मिश्रा
18
प्रिय ब्लॉगर मित्रों,प्रणाम !आज जून महीने का तीसरा रविवार है ... हर साल की तरह इस साल भी जून का यह तीसरा रविवार फदर्स डे  के रूप मे मनाया जा रहा है ... पर सिर्फ एक दिन पिता को समर्पित कर क्या हम सब उस के कर्ज़ से मुक्त हो सकते है ... यही है क्या वास्तव मे हमारा...
शिवम् मिश्रा
18
"चुपके चुपके" फ़िल्म का सीन याद कीजिए..... जीजाजी का टेलीग्राम आया है.. नायिका के इतना कहनें से नायक का चेहरा हैरानी से भर जाता है की जीनियस जीज्जा जी। सत्तर और अस्सी के दशक में सूचना को तेज़ी से पहूंचानें का एक बडा माध्यम था यह टेलीग्राम या कहें तो तार। कोई भी एक...
शिवम् मिश्रा
18
प्रिय ब्लॉगर मित्रों ,प्रणाम !विश्व रक्तदान दिवस 14 जून को घोषित किया गया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा हर साल 14 जून को 'रक्तदान दिवस' मनाया जाता है। वर्ष 1997 में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 100 फीसदी स्वैच्छिक रक्तदान नीति की नींव डाली है। वर्ष 1997 में संगठन...
शिवम् मिश्रा
18
ज़िन्दगी इम्तहान लेती है ........... लेती ही जाती है,अपना घर,अपनी जिम्मेदारियाँ,अपने उत्तरदायित्व ही इतने हैं कि ज़िन्दगी कम पड़ जाती है .... ऐसे में दूसरे के रास्ते में पाँव रखना रास्ते से बेरास्ते होना है, इसे समझकर भी हम बाज नहीं आते - दूसरे क्या हैं,क...
शिवम् मिश्रा
18
आदरणीय ब्लॉगर मित्रों नमन, पिछले दिनों अमिताभ बच्चन साहब के बेहद करीबी वफ़ादार जन्नत नशीं हो गए | हुज़ूर मीडिया वालों को एक और मुद्दा मिल गया हो हल्ला मचने का और बात को बढ़ा चढ़ा कर बखान करने का | चैनल की टी आर पी बढ़ाने का और हुज़ूर के वफ़ादार को सीधा स्वर्ग...
शिवम् मिश्रा
18
एक दिन खेल खेल मेंमैंने सूरज से कुछ किरणें माँगी वादा किया -जहाँ अँधेरा दिखा वहां एक किरण दूँगी .............................................................जीवन का एक लम्बा अध्याय पार कर गई तब जाना दिन में भी अँधेरे सिसकते हैं" पहले से जान...
शिवम् मिश्रा
18
आदरणीय ब्लॉगर मित्रगण सादर प्रणाम,एक आदमी सोना तोलने के लिए सुनार के पास तराजू मांगने आया। सुनार ने कहा, ‘‘मियाँ, अपना रास्ता लो। मेरे पास छलनी नहीं है।’’ उसने कहा, ‘‘मजाक न कर, भाई, मुझे तराजू चाहिए।’’सुनार ने कहा, ‘‘मेरी दुकान में झाडू नहीं हैं।’’ उसने कहा,...