ब्लॉगसेतु

YASHVARDHAN SRIVASTAV
0
जिन्होंने देश की रक्षा के लिएकभी नहीं झुकने दियाअपना सरहमे नाज है देश के वीर जवानों पर।।और रक्षा की हमारी तलवारों पर सर वार करलेकीन लड़ते रहे हर मुसीबत सेआखिरी सास तकए वीरो तुम्हारी कुर्बानी नहीं जाएगी खालीतुम्हें पुरे देश की ओर से भावभीनी श्रद्धांजलि।।
YASHVARDHAN SRIVASTAV
0
रात अटल है,दिन अटल है,ये सूरज - ये चांदअटल है।।पशु अटल है,पंछी अटल है,हरियाला ये जंगलअटल है।।पर्वत अटल है,मैदान अटल है,ये धरती, ये आकाशअटल है।।पानी अटल है,आग अटल है,नदिया की बहतीये धाराअटल है।।आप अटल है,मैं अटल हूं,मन के भीतरकुछ बातेंअटल है।।हर वो क्षण-क्षणअटल है,ज...
YASHVARDHAN SRIVASTAV
0
एक ऐसा भारत हो,जहां आपस  में ना भेद हो।प्रेम के प्रति प्रेम हो।जहां हर तरफ हरियाली हो,वातावरण में फैली खुशहाली हो।।हर जनजाति का सम्मान हो,पशु-पक्षियों सेभी सबको,प्यार हो।प्लास्टिक का ना नाम हो,गंगा - यमुना, हर नदी साफ हो।सफल स्वच्छ - भारत अभियान हो।।डिजिटल पाव...
विजय राजबली माथुर
0
इससे पूर्व लेख के जरिये विद्व्जनो के उपरोक्त निष्कर्ष प्रस्तुत किए थे। लेकिन लोग मनन किए बगैर पुरोहित - व्यापारी गठजोड़ द्वारा निरूपित पद्धति को ढोते जा रहे हैं। वस्तुतः ' शिव ' हमारा भारत वर्ष देश है , इस देश की प्रकृति ' पार्वती ' है और उनके पुत्र गणेश से अभि...
विजय राजबली माथुर
0
दुर्भाग्य से आज विद्वान कम्यूनिज़्म को धर्म विरोधी कहते हैं और कम्युनिस्ट भी इसी मे गर्व महसूस करते हैं। धर्म जिसका अर्थ 'धारण करने'से है को न मानने के कारण ही सोवियत रूस मे कम्यूनिज़्म विफल हुआ और चीन मे सेना के दम पर जो शासन चल रहा है वह कम्यूनिज़्म के सिद्धांतों...
Bhavana Lalwani
0
साल का सबसे बड़ा त्यौहार दीवाली,  पूरे पांच दिन का  त्यौहार, धनतेरस से लेकर भाई दूज तक चलने वाला "The Great Indian Festival that can beat A Circus Show as well."  अब आप पूछिए कि इसमें सर्कस बीच में कैसे आ गया और मेरी इतनी मजाल कि मैं दीवाली जैसे महत्...