ब्लॉगसेतु

kumarendra singh sengar
30
बीते दिनों से छुटकारा पाना आसान नहीं होता है. उन दिनों की बातें, उनकी यादें किसी न किसी रूप में सामने आ ही जाती हैं. ये यादें कभी हँसाती हैं तो कभी रुलाती हैं. दिल-दिमाग खूब कोशिश करें कि पुरानी बातों को याद न किया जाये मगर कोई न कोई घटना ऐसी हो ही जाती है कि इन या...
सुशील बाकलीवाल
333
           बाबु मोशाय... कभी-कभी ऐसा होता है कि किसी आदमी ने हमारा कोई भला नहीं किया लेकिन वो हमें अच्छा लगता है । हाँ...  और कभी-कभी ऐसा भी होता है कि किसी आदमी ने हमारा कोई बुरा नहीं किया, लेकिन वो हमें बिल्कुल...
Asha News
89
विजेता प्रतिभागियो को किया गया पुरस्कृत     झाबुआ। आज 20 अगस्त 2019 को पूर्व प्रधानमंत्री स्व. श्री राजीव गांधी के जन्म दिवस सद्भावना दिवस के अवसर पर जिला मुख्यालय पर सद्भावना दौड का आयोजन  राजवाडा चौक से कलेक्टर कार्यालय खेल परिसर तक किया गया।...
Asha News
89
20 अगस्त को मनाया जाएगा सद्भावना दिवस झाबुआ। राज्य शासन के निर्देशानुसार जिले में 20 अगस्त 2019 को पूर्व प्रधानमंत्री स्व. राजीव गांधी के जन्म दिवस पर सद्भावना दौड 20 अगस्त को प्रातः 7.30 बजे से राजवाडा चौक झाबुआ से प्रारम्भ होकर नेहरू मार्ग ब्लाक कालोनी,राजगढ...
 पोस्ट लेवल : झाबुआ सदभावना दौड
Yashoda Agrawal
5
बीज - अंकुर - पौधा - पेड़ -फूल - फल -पकना -फिर बीज बननाफिर वही मिट्टी- वही पानी-वही धूप- वही छाया-वही अंकुर- वही पौधा-वही पेड़- वही फल-बस यही प्रक्रिया हैअनन्त तक-डॉ. भावना कुँअर
kumarendra singh sengar
30
हम सभी ज़िन्दगी की अनिश्चितता को लेकर बहुत सारी बातें करते हैं मगर इसकी असलियत के बारे में कभी गौर भी नहीं करते हैं. हो सकता है आप इसे न स्वीकारें मगर इससे इंकार नहीं कर सकते कि रोज ही घर से बाहर निकलते समय आप ज़िन्दगी की अनिश्चितता को लेकर विचार न करते हों. सबकुछ आप...
kumarendra singh sengar
30
शारीरिक संरचना में दिल जितना छोटा है, व्यक्ति उसे लेकर उतना ज्यादा ही परेशान है. संबंधों को, रिश्तों को, आपसी ताने-बाने को वह दिल के सन्दर्भ में तौलना शुरू कर देता है. दिल के साथ-साथ देह में एक दिमाग भी होता है. वैज्ञानिक रूप में और चिकित्सा विज्ञान के अनुसार दिमाग...
kumarendra singh sengar
30
लोग कहते हैं कि इस एक जीवन में प्रेम करने के लिए ही पर्याप्त समय नहीं, लोग कहाँ से आपस में दुश्मनी पाल लेते हैं. यहाँ समझना होगा कि प्रेम किससे, दुश्मनी किससे? प्यार किससे, नफरत किससे? जिन दो दिलों में प्यार होगा उनमें आपस में नफरत नहीं होगी, आपस में उनमें दुश्मनी...
 पोस्ट लेवल : मानसिकता प्रेम भावना
kumarendra singh sengar
30
कतिपय सार्वभौमिक सत्यों की तरह यह भी सार्वभौमिक सत्य है कि ग़लतफ़हमी के चलते संबंधों के बिगड़ने में देर नहीं लगती है. इसके लिए किसी परीक्षण की आवश्यकता नहीं होती है क्योंकि यह अनादिकाल से सत्य होता चला आ रहा है. दो लोगों के आपसी संबंधों में बिखराव का एक कारण उनके बीच...
kumarendra singh sengar
30
अनेक बार व्यक्तिगत रूप से महसूस किया है कि संबंधों का विस्तार हो मगर भावनात्मकता के बिना हो. संबंधों में यदि भावनात्मकता का समावेश हो जाये और यदि किसी कारण से उनमें तारतम्यता न बनी रहे तो कष्ट बहुत होता है. ऐसा किसी और के नहीं वरन स्वयं के अनुभव से महसूस किया है. ऐ...