ब्लॉगसेतु

Ashish Shrivastava
0
ब्रह्मांड के मूलभूत और महत्वपूर्ण गुणधर्मो मे से एक प्रकाश गति है। इसे कई रूप से प्रयोग मे लाया जाता है जिसमे दूरी का मापन, ग्रहों के मध्य संचार तथा विभिन्न गणिति गणनाओं का समावेश है। और यह तो बस एक नन्हा सा भाग ही है। निर्वात मे प्रकाश की गति 299,792 किमी/सेकंड है...
Ashish Shrivastava
0
प्रतिपदार्थ(Antimatter) से ऊर्जा के निर्माण का सिद्धांत अत्यंत सरल है। पदार्थ(matter) : साधारण पदार्थ जो हर जगह है। नाभिक मे धनात्मक प्रोटान और उदासीन न्युट्रान, कक्षा मे ऋणात्मक इलेक्ट्रान से निर्मित। प्रतिपदार्थ(Antimatter) : इसके गुणधर्म पदार्थ के जैसे ही है ले...
Ashish Shrivastava
0
जब किसी धातु की सतह पर विद्युत चुम्बकीय विकरण(Electro Magnetic Radiation जैसे X-किरण,पराबैगनी किरण,दृश्य प्रकाश)पड़ती है तो उसकी सतह से इलेक्ट्रॉन निकलने लगते है सरल शब्दों में यही प्रकाश विद्युत है। इस क्रिया से जो इलेक्ट्रॉन निकलते है उसे प्रकाश इलेक्ट्रॉन(Photoel...
 पोस्ट लेवल : भौतिकी
Ashish Shrivastava
0
उत्तरी गोलार्द्ध(Northern Hemisphere)में मध्य मई से जुलाई के अंत तक तथा दक्षिणी गोलार्द्ध(Southern Hemisphere)में मध्य नवंबर से जनवरी के अंत तक की अवधियों में 63°समानांतर से उच्च अक्षांशों(High Latitude)में पाई जाने वाली वह अवस्था, जिसमें सूर्य 24 घंटे नहीं छिपता...
 पोस्ट लेवल : भौतिकी सरल विज्ञान
Ashish Shrivastava
0
हमारी पृथ्वी अन्य ग्रहो से बिलकुल अलग है और खास भी कारण धरती पर जीवन का होना। वैसे तो पृथ्वी पर असंख्य जीव है परंतु जब बात प्रतिभाशाली परिष्कृत जीव की होगी सर्वप्रथम स्थान “मानव”। मनुष्य धरती पर सबसे प्रतिभाशाली जीव है क्योंकि मनुष्य देखने,सोचने,समझने औ...
 पोस्ट लेवल : भौतिकी मानव विज्ञान
Ashish Shrivastava
0
नोबेल कमेटी की तरफ से कहा गया कि इस बार के विजेताओं ने अबूझ दुनिया को समझने के लिए दरवाजे खोले हैं। डेविड थूल्स, डंकन हाल्डेन और माइकल कोस्टरलिट्ज(बायें से दाये) ब्रिटेन के तीन वैज्ञानिकों को तत्व के विविध रूपों से जुड़ी खोज के लिए मंगलवार को भौतिक विज्ञान में वर्ष...
Ashish Shrivastava
0
चित्रकार की कल्पना के अनुसार तीन तारो की प्रणाली मे HD 131399Ab ग्रह। वैज्ञानिकों ने पृथ्वी से 340 प्रकाशवर्ष दूर और बृहस्पति ग्रह के द्रव्यमान से चार गुना वजनी एक नए ग्रह की खोज की है जो तीन तारों की परिक्रमा लगाता है और मौसमों के अनुरूप हर दिन तीन बार सूर्योदय और...
Ashish Shrivastava
0
बड़े आकार के लिये चित्र पर क्लिक करें सूर्य पृथ्वी की कक्षा, मंगल और उससे बाहर जाने वाले अंतरिक्ष यानो को ऊर्जा देता है। नासा के बृहस्पति ग्रह पर जाने वाला जुनो अभियान सौर ऊर्जा चालित अधिकतम दूरी वाला अंतरिक्षयान है। इस अभियान की सफ़लता से भविष्य मे सौर ऊर्जा चालित अ...
Ashish Shrivastava
0
हम सभी जानते है कि वर्तमान मे ऊर्जा के प्राथमिक स्रोत का सीमित भंडार है। वर्तमान ऊर्जा स्रोत जीवाश्म आधारित है। कभी ना कभी निकट भविष्य मे पृथ्वी के तेल भंडार समाप्त हो जायेंगे और उस समय हम ऊर्जा के वैकल्पिक संसाधनो पर पुर्णत निर्भर हो जायेंगे। बहुत से देशो ने पारंप...
Ashish Shrivastava
0
 पोस्ट लेवल : इन्फ़ोग्राफ़िक भौतिकी