ब्लॉगसेतु

जन्मेजय तिवारी
452
                       घर में खूब तैयारी की गई थी । दरवाजे पर रंगोली बनी थी । बाहरी रेखा पर शुद्धिकरण का प्रयास कुछ इस तरह से किया गया था कि स्वच्छता भी खुल कर दिखाई दे और स्वागतम् के उभरे अक्षर हार्द...
 पोस्ट लेवल : बाबू teer-a-nazar भ्रष्टाचार
सतीश सक्सेना
101
हमारे यार, धन दौलत,जमीं,जायदाद रखते हैं !नवाबी शौक़,सज़दे के लिए सज्जाद रखते हैं !मदद लेकर हमारी वे हुए , गद्दी नशीं जब से !  सबक यारों को देने,साथ में जल्लाद रखते हैं !वही कहलायेंगे शेरे जिगर रह कर गुफाओं मेंअकेले जंगलों में भी जिगर फौलाद रख...
संजीव तिवारी
395
प्रकरण में उपलब्ध साक्ष्य एवं दस्तावेजां से यह स्पष्ट होता है कि अभियुक्त का, भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा-7 एवं धारा-13(1)(डी) सहपठित धारा-13(2) के तहत् आपराधिक अवचार का अपराध कारित करने का आपराधिक आशय था । विवेचना एवं विचारण की कार्यवाही में कुछ विसंगतियां द...
सतीश सक्सेना
101
इनके आने के तो कुछ और ही माने होंगे !जाने मयख़ाने के, कितने ही बहाने होंगे !हमने पर्वत से ही नाले भी निकलते देखे !हर जगह तो नहीं , गंगा के मुहाने होंगे !धन कमाना हो खूब,मीडिया में आ जाएँ एक राजा के ही बस, ढोल बजाने होंगे ! सोंच में हो&n...
विजय राजबली माथुर
74
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं )  पद्मनाभन  साहब की नज़र से तीन वर्षों में दो बार ऐसा होना उत्तर प्रदेश के मतदाताओं में संरचनात्मक बदलाव है। क्योंकि देश की जनसंख्या में नौजवान...
संजीव तिवारी
395
न्यायालय- स्पेशल जज ऑफ स्पेशल कोर्ट फॅार ट्रायल ऑफ सी.बी.आई केसेज) रायपुर (छ0ग0) (पीठासीन न्यायाधीश  - पंकज कुमार जैन) (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); प्रकरण क्रमांक- CBI/70/2013 अपराध क्र.- RC1242013A0001 भारत संघ, द्वा...
संजीव तिवारी
395
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); अभियोजन यह संदेह से प्रमाणित करने में असफल रहा है कि आरोपी शिवप्रसाद धृतलहरे ने दिनांक 03.09.2008 को तथा उसके पूर्व छात्रावास अधीक्षक, अनुसूचित जाति बालक छात्रावास, सिद्धार्थ चौक, टिकरापारा रायपुर में लोक सेवक के प...
संजीव तिवारी
395
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); उभय-पक्ष के निवेदन पर विचार करते हुये धारा-7 भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के अपराध में अभियुक्त का एक वर्ष के कठोर कारावास और 1,000/-(एक हजार) रुपये के अर्थदण्ड से दण्डित किया जाता है। अर्थदण्ड नहीं पटाने की दशा में ए...
संजीव तिवारी
395
आरोपी के विरूद्घ प्रथम दृष्टया मामला पाये जाने पर अन्तर्गत धारा 07 भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम एवं धारा 13(1)(डी)सहपठित धारा 13(2) भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत आरोप विरचित किया गया आरोपी का अभिवाक लिया गया, आरोपी के द्वारा अपराध अस्वीकार किया गया (adsbygoogle = w...
संजीव तिवारी
395
प्रकरण की परिस्थितियों के अनुसार आरोपी द्वारा वरिष्ठ शासकीय अधिकारी होते हुए करोडों रूपये की अनुपातहीन संपत्ति अर्जित किया है, इसलिए आरोपी के लिये नरमी बरता जाना उचित नहीं है, माननीय सर्वोच्च न्यायालय एवं छ0ग0 उच्च न्यायालय ने अपने अनेकों न्याय-सिद्धांतों में आरोपी...