ब्लॉगसेतु

Kajal Kumar
7
Kajal Kumar
7
Kajal Kumar
7
Kajal Kumar
7
Kajal Kumar
7
Kajal Kumar
7
Kajal Kumar
7
अशोक पाण्‍डेय
327
अशोक पाण्‍डेय
327
Kajal Kumar
379
ओ रे बाबा गॉंधी,वो टोपी जो तूने तो कम पहनी, पर हि‍न्‍दुस्‍तान को ज्‍यूँ गहना दी,तेरे जाने के बादचपाटों नेपूरे देश को पहना दी,फि‍र न पूछ कि‍तेरी इस टोपी से क्‍या क्‍या व्‍याभि‍चार हुआ.रोज़ हुआ, हर बार हुआ.अबके जो नए हल्‍लाबोली से आए हैंइसे फि‍र संग लाए हैं.घर...