ब्लॉगसेतु

विजय राजबली माथुर
203
कल - आज और कल ===============कभी - कभी कुछ विशेष परिस्थितियों में अतीत के कुछ पल यों मस्तिष्क में घूम जाते हैं जैसे यह पिछले कल के दिन की ही बात है। * ठीक 50 वर्ष पूर्व 1969 में जब मेरठ कालेज , मेरठ में बी ए में प्रवेश लिया तब राजशास्त्र ( pol sc), अर्थशा...
विजय राजबली माथुर
73
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं )सबहि नचावत ट्रंप गुसाई !================अब थोड़ा-थोड़ा समझ में आने लगा है। पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव और युद्ध की आशंकाओं के...
सुशील बाकलीवाल
328
          मैं एक घर के करीब से गुज़र रहा था, अचानक मुझे उस घर के अंदर से एक बच्चे की रोने की आवाज़ आई । उस बच्चे की आवाज़ में इतना दर्द था कि अंदर जा कर वह बच्चा क्यों रो रहा है, यह मालूम करने से मैं खुद को रोक ना सका । अंद...
Bhavna  Pathak
79
कहानी कोई खास नहीं थी पर राजन भाई जब पीछे पड़ गए तो कहां जान बच सकती थी। बिल्कुल बच्चों की तरह जिद करने लगते हैं। गनीमत है कि बच्चों की तरह जमीन पर लोटने नहीं लगते। स्टडीरूम में ंमेरे हाथ में यह सूजा क्या देख लिया बस सीबीआई वालों की तरह करने लगे सवाल पर सवाल।...
विजय राजबली माथुर
126
***** जेएनयू के छात्रों ने देश विरोधी नारे लगाने के आरोप में बंद उमर और अनिर्बान की रिहाई के लिए मंडी हाउस पर मार्च किया। इसी दौरान तीन लोग कन्हैया कुमार के मंच पर बढ़े और पुलिस ने तीनों को हिरासत में ले लिया।*****मंडी हाउस से संसद तक आयोजित इस मार्च को पुलिस...
अनंत विजय
54
मुबई में आयोजित लिट ओ फेस्ट के एक सत्र- मीडिया मंडी के बदलते नियम- सोशल मीडिया के बढ़ते कदम के आलोक में था । इस सत्र में इस बात लेकर जबरदस्त मतभेद थे कि सोशल मीडिया के आने से मुख्यधारा की मीडिया का अंत हो जाएगा । एक विद्वान लेखक ने तो उत्साह में यह तक कह डाला कि आन...
विजय राजबली माथुर
203
.... पिछले अंक से जारी......बाबूजी के निधन के 12 दिन बाद ही बउआ का भी निधन हो गया था। 23 तारीख को अजय फरीदाबाद मेरे रुके रहने को कहने के बावजूद चले गए थे। वहाँ अटेची खोली भी नहीं थी ,अपने काम पर भी नही गए थे कि पुनः लौटना पड़ा। थकान या सदमा जो भी हो उनकी तबीयत गड़ब...
विजय राजबली माथुर
203
21 फरवरी 1985 को रजिस्टर्ड डाक से मुझे टर्मिनेशन लेटर मिल गया और रोजाना हाजिरी लगाने जाने से छुट्टी हो गई। इसी के साथ-साथ अभी तक जो तीन-चौथाई वेतन सस्पेंशन एलाउंस के रूप मे मिल रहा था वह भी मिलना बंद हो गया। साढ़े-नौ वर्ष की ग्रेच्युटी का ड्राफ्ट भेजा गया था उसे अग...
Krishna Kumar Yadav
419
यदि तुम खेलोगे-कूदोगेतो ख़राब बन जाओगे,झूठी हुई कहावत यह तो,सबको ही बतलाओगे।पढ़ने-लिखने वाले ही क्याबस नवाब बन पाते हैं?खेलकूद में रहते अव्वलवे भी नाम कमाते हैं,नई धरा है, नया गगन हैनये लक्ष्य तुम पाओगे।देखो चाहे तेंदुलकर कोया सुनील गावस्कर को,अथवा पी. टी. ऊषा हो फि...