ब्लॉगसेतु

152
विषय - मकर संक्रांतिविधा - चौपाई छन्दमकर सक्रांति पर्व है आया उत्तरांचल पूरा हर्षायाकाले काले कौए आजामीठे मीठे  घुघुते खाजा।।1।।काँप रही सर्दी से काया मुन्ना कोट पहन के आया खालो गरम गरम घुघुते तुम पर्व दिवस मत बैठो  गुमसुम।।2।। ना...
सुशील बाकलीवाल
415
      जान लीजिये कि मकर संक्रान्ति पर्व अब 15 जनवरी को क्यों आने लगा है ?  जबकि यह वर्ष 2080 तक अब हर वर्ष 15 जनवरी को ही आता रहेगा । विगत 72 वर्षों से प्रति वर्ष मकर संक्रांति हम ...
ज्योति  देहलीवाल
40
मकर संक्रांति या लोहडी के अवसर पर तिल के लड्डू के साथ-साथ तिल गुड़ की रेवड़ी भी बहुत बनाई और खाई जाती हैं। तिल में बहुत सारा कैल्शियम होता हैं और गुड़ आयरन का बहुत बड़ा स्त्रोत हैं। ठंडी के दिनों में तिल और गुड़ का सेवन सेहत के लिए बहुत ही लाभकारी होता हैं। तिल गुड़ की र...
ज्योति  देहलीवाल
40
मकर संक्रांति आने वाली हैं और इन दिनों तिल के व्यंजनों के साथ-साथ मुरमुरा लड्डू (puffed rice laddu) भी बहुत बनाये जाते हैं। खस्ता और कुरकुरे मुरमुरे के लड्डू सभी को बहुत पसंद आते हैं, खास कर बच्चों को। ये लड्डू बनाने के लिए सामग्री एवं वक्त दोनों ही कम लगता हैं और...
ज्योति  देहलीवाल
40
मकर संक्रांति के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। इसलिए इस समय को 'मकर संक्रांति' कहा जाता है। हिन्दू महीने के अनुसार पौष शुक्ल पक्ष में मकर संक्रांति पर्व मनाया जाता है। दक्षिण भारत में इस त्योहार को पोंगल के रूप में मनाया जाता है। उत्तर भारत में...
ज्योति  देहलीवाल
40
सर्दियों में तिल और गुड़ दोनों ही सेहत के लिए बहुत फ़ायदेमंद होने से ही सर्दियों में तिल और गुड़ के व्यंजन खाए जाते हैं। दोनों में आयरन और प्रोटिन ज्यादा मात्रा में पाएँ जाते हैं। खासकर मकर संक्रांति पर तिल और गुड़ के व्यंंजन बनाएं जाते हैं। क्या आप इस बात स...
शिवम् मिश्रा
21
नमस्कार साथियो, आज पूरे देश में मकर संक्रांति का पावन पर्व मनाया जा रहा है. सूर्य के एक राशि से दूसरी राशि में जाने को ही संक्रांति कहते हैं. इसी दिन, पौष मास में सूर्य धनु राशि को छोड़ मकर राशि में प्रवेश करता है. मकर संक्रान्ति के दिन से ही सूर्य की उत्तरायण गति...
Kavita Rawat
188
..............................
sahitya shilpi
6
..............................
Kavita Rawat
188
हमारे भारतवर्ष में मकर संक्रांति, पोंगल, माघी उत्तरायण आदि नामों से भी जाना जाता है। वस्तुतः यह त्यौहार सूर्यदेव की आराधना का ही एक भाग है। यूनान व रोम जैसी अन्य प्राचीन सभ्यताओं में भी सूर्य और उसकी रश्मियों को भगवान अपोलो और उनके रथ के स्वरूप की परिकल्पना की गई ह...