ब्लॉगसेतु

दिनेशराय द्विवेदी
30
छँटनी की परिभाषा बदलने से जन्मी श्रमिक-कर्मचारियों की नई श्रेणीदेश के श्रम न्यायालयों और औद्योगिक न्यायाधिकरणों में जो प्रकरण लंबित हैं, मेरे अनुमान के अनुसार उनमें से 80 प्रतिशत से अधिक केवल छंटनी के मामले हैं। 1984 में छंटनी की परिभाषा में परिवर्तन के पहले तक उसक...
दिनेशराय द्विवेदी
30
श्रम कानून में परिवर्तन से मजदूर वर्ग की स्थिति कैसे बदतर हुई?फरवरी 1978 में सुप्रीमकोर्ट के 7 न्यायाधीशों की वृहत पीठ ने बैंगलोर वाटर सप्लाई एण्ड सीवरेज बोर्ड व अन्य बनाम आर. राजप्पा व अन्य के मुकदमे में निर्णय पारित कर यह स्पष्ट कर दिया था कि किस तरह के संस्थानों...
दिनेशराय द्विवेदी
30
नए कानूनों ने मजदूर वर्ग को कमजोर और असहाय बनायाकेन्द्र और देश के अधिकांश राज्यों में श्रीमती इन्दिरागांधी की पार्टी कांग्रेस (इ) की सरकारें थी। तभी ठेकेदार मजदूर (विनियमन एवं उन्मूलन) अधिनियम-1970 संसद में पारित हुआ। इसका उद्देश्य बताया गया था कि ठेकेदार मजदूरों क...
दिनेशराय द्विवेदी
30
संगठित मजदूरों के क्षेत्र को न्यूनतम बनाए रखने की साजिशइस विमर्श की कल की कड़ी में मैं ने कहा था कि कोविद-19 महामारी को फैलने से रोकने के उपायों की घोषणा मात्र से, लोगों को विशेष रूप से देश से औद्योगिक केन्द्रों से मजदूरों और उनके परिवारों द्वारा उनके गाँवों की ओर...
161
दिनेशराय द्विवेदी
30
न्याय की स्थिति बहुत बुरी है। विशेष रुप से मजदूर वर्ग के लिए। आज मेरी कार्यसूची में दो मुकदमे अंतिम बहस के लिए थे। इन दोनों मामलों में प्रार्थी मजदूर हैं, जिनके मुकदमे 2008 से अदालत में लंबित हैं। हालाँकि श्रम न्यायालय में जाने के पहले इन मजदूरों ने श्रम विभाग में...
161
 मजदूरीमजदूरी करके करें, घर का पूरा काम। नौकर को मिलता नहीं, कभी यहाँ विश्राम।। कभी यहाँ विश्राम, नहीं करना तुम राधे। जग में करना काम ,सभी तुम सीधे साधे।।कह राधे गोपाल, गरीबी है मजबूरी करते हैं इंसान, धरा पर सब मजदूरी      &n...
विजय राजबली माथुर
126
वाम को जनता व मजदूर वर्ग से उनकी भाषा में संपर्क करना होगा  ------ आकृति भाटिया   : पहले से निश्चित था कि , भाजपा की मोदी सरकार 2019 के चुनावों में छल - छद्यम से पुनः सत्तारूढ़ होने की जुगत में है जिसमें उसे सफलता इसीलिए मिल गई क्योंकि वामपंथी द...
जेन्नी  शबनम
98
अधिकार और कर्त्तव्य   *******   अधिकार है तुम्हें   कर सकते हो तुम   हर वह काम जो जायज नहीं है   पर हमें इजाजत नहीं कि   हम प्रतिरोध करें,   कर्तव्य है हमारा   सिर्फ वह बोलना  &nbs...
 पोस्ट लेवल : मजदूर दिवस
Kavita Rawat
194
..............................
 पोस्ट लेवल : मजबूर मजदूर मई दिवस